किसने कहा, मोदी उस दुल्हन की तरह जो रोटियां कम बेलती है और चूड़ियां ज्यादा खनकाती है

पुनः संशोधित शनिवार, 11 मई 2019 (15:52 IST)
इंदौर। चुनाव आयोग के ताजा नोटिस के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ तीखे हमले जारी रखते हुए पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के काबीना मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को मोदी की उस दुल्हन से तुलना की, जो असल में घरेलू काम-काज कम करती है लेकिन दूसरों के सामने अपने काम का दिखावा ज्यादा करती है।
सिद्धू ने कहा, 'मोदी उस दुल्हन की तरह हैं, जो रोटी कम बेलती है और चूड़ियां ज्यादा खनकाती है ताकि मोहल्ले वालों को पता चले कि वह काम कर रही है। यह मैं आठवीं बार पूछ रहा हूं कि मोदी (प्रधानमंत्री के रूप में) मुझे अपनी बस एक उपलब्धि बता दें।'

प्रधानमंत्री के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्पणी के जरिये आदर्श आचार संहिता का प्रथम दृष्टया उल्लंघन करने पर सिद्धू को चुनाव आयोग ने शुक्रवार को ही एक नया कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

पश्चिमी मध्यप्रदेश के चुनावी दौरे पर निकले पंजाब के काबीना मंत्री ने शनिवार को यहां मीडिया के सामने अमेरिका की मशूहर पत्रिका 'टाइम' के ताजा अंक की वह प्रति भी लहरायी जिसके मुख्य पृष्ठ पर मोदी को "इंडियाज डिवाइडर-इन-चीफ" के विवादास्पद शीर्षक के साथ स्थान दिया गया है।

सिद्धू ने कहा, 'वह (भाजपा नेता) मेरी शिकायत करते हैं। लेकिन मैं छाती ठोक कर मोदी को लायर-इन-चीफ, झूठा नम्बर वन, फेंकू नम्बर वन और डिवाइडर-इन-चीफ कह रहा हूं, क्योंकि वह जात-पांत के नाम पर लोगों को बांट रहे हैं। मैं उन्हें अम्बानी और अडाणी का बिजनेस मैनेजर-इन-चीफ भी कह रहा हूं।'
उन्होंने मोदी पर बुनियादी मुद्दों से भागने और राष्ट्रवाद की शरण लेकर चुनाव लड़ने का आरोप भी लगाया। इसके साथ ही, भाजपा को चुनौती दी कि वह मोदी के खिलाफ उनके आरोपों का खंडन करके दिखाये।

करतारपुर साहिब पर कांग्रेस के खिलाफ मोदी के ताजा बयान पर सिद्धू ने कहा, 'इस बयान का मोदी के 342 संकल्पों, देश के विकास, जीएसटी, गरीबों और किसानों से क्या संबंध है? झूठे प्रधानमंत्री असल मुद्दों से देश का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि उनकी सरकार नाकाम रही है और उनके पास जनता को दिखाने के लिये एक भी उपलब्धि नहीं है।'
मोदी ने कल शुक्रवार को पंजाब में एक चुनावी रैली में आरोप लगाया था कि कांग्रेस की बड़ी ऐतिहासिक गलती के चलते बंटवारे के समय करतारपुर साहिब पाकिस्तान में चला गया था। सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक ने करतारपुर में ही अपने अंतिम दिन बिताये थे।

सिद्धू ने वर्ष 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख सैम पित्रोदा के विवादास्पद बयान से कन्नी काटते हुए इस पर टिप्पणी से इंकार कर दिया। पंजाब के काबीना मंत्री ने कहा कि मेरे लिए यह जरूरी नहीं है कि उन्होंने (पित्रोदा) क्या कहा। मैं उनके बयान पर कैसे टिप्पणी कर सकता हूं? बस में पट्टी लगी होती है कि सवारी अपने सामान की खुद जिम्मेदार है।
सिद्धू ने प्रधानमंत्री पर पूंजीपतियों को अनुचित फायदा पहुंचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि लोग कहते हैं कि चौकीदार चोर है क्योंकि चौकीदार केवल अम्बानी और अडाणी के घर के बाहर खड़ा है। (भाषा)


 

और भी पढ़ें :