0

रामपुर लोकसभा सीट परिचय

बुधवार,मई 15, 2019
Rampur
0
1
अमेठी और रायबरेली की तरह ही उत्‍तर प्रदेश की पीलीभीत सीट भी गांधी परिवार का गढ़ मानी जाती है। एक बार फिर मेनका गांधी के बेटे वरुण गांधी इस संसदीय क्षेत्र से जीत की ताल ठोंक रहे हैं। साल 2014 के चुनाव में यहां से भाजपा की मेनका गांधी ने सपा के ...
1
2
मथुरा लोकसभा सीट से भाजपा ने एक बार फिर साल 2014 के चुनाव में भारी मतों से जीत हासिल कर सांसद बनीं हेमा मालिनी को जीतने का मौका दिया है। अब देखना दिलचस्‍प होगा कि इस त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा की इस उम्‍मीदवार को मोदी लहर का कितना फायदा मिलता है।
2
3
सपा का गढ़ कही जाने वाली कन्नौज सीट पर इस बार साल 2014 के लोकसभा चुनाव में 'मोदी लहर' को टक्‍कर देकर यहां विजयी रहीं अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के खिलाफ भाजपा के सुब्रत पाठक का रोचक मुकाबला देखने को मिल सकता है, क्‍योंकि बसपा ने यहां अपना कोई ...
3
4
कानपुर औद्योगिक शहर होने से इस सीट पर शुरुआत में ट्रेड यूनियन के नेता जीतकर संसद पहुंचते रहे, लेकिन बाद में राजनीति ने ऐसी करवट बदली कि कांग्रेस या फिर भाजपा के बीच बारी-बारी से यह सीट जाती रही। सपा और बसपा का कोई भी प्रत्याशी यहां जीत हासिल नहीं कर ...
4
4
5
उत्तर प्रदेश की फतेहपुर सीकरी उन चंद संसदीय सीटों में से एक है जिस पर पूरे देश की निगाह रहेगी। इस बार भाजपा ने राजकुमार चाहर को तो कांग्रेस ने दिग्‍गज नेता राज बब्बर को मैदान में उतारा है। साल 2014 के चुनाव में भाजपा के चौधरी बाबूलाल एकतरफा जीत ...
5
6
आलू का शहर के नाम से मशहूर फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर इस बार त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद जीत के लिए अपना पूरा दमखम लगा रहे हैं, उन्‍हें भाजपा के मौजूदा सांसद मुकेश राजपूत और बसपा के मनोज अग्रवाल से कड़ी ...
6
7
समाजवादी पार्टी का गढ़ मानी जाती है आजमगढ़ लोकसभा सीट। क्योंकि यहां कांग्रेस के बाद सपा ने ही सबसे ज्यादा बार जीत हासिल की है। ले‍किन इस बार भाजपा के दिनेश लाल यादव 'निरहुआ' और सपा के अखिलेश यादव बीच कांटे की टक्कर है। साल 2014 के चुनाव में यहां सपा ...
7
8
उत्तर प्रदेश की इस हाईप्रोफाइल सीट पर गठन के बाद से ही भाजपा का कब्जा रहा है। इससे पहले यह संसदीय क्षेत्र हापुड़ लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा था। भाजपा ने यहां एक बार फिर मौजूदा सांसद वीके सिंह को टिकट दिया है, जबकि सपा ने सुरेश बंसल, तो कांग्रेस ने ...
8
8
9
उत्‍तर प्रदेश का महत्‍वपूर्ण संसदीय क्षेत्र है सुल्तानपुर। यहां लंबे समय तक कांग्रेस का कब्जा रहा है, लेकिन रायबरेली और अमेठी की तरह यह सीट वीवीआईपी नहीं बन सकी। इस बार यहां भाजपा की मेनका गांधी और कांग्रेस के संजय सिंह के बीच मुकाबला है। इससे पहले ...
9
10
उत्तर प्रदेश की रायबरेली सीट परंपरागत रूप से कांग्रेस का गढ़ मानी जाती रही है और अब तक हुए कुल 19 चुनावों में 16 बार कांग्रेस प्रत्याशी ही यहां से जीते हैं। साल 2014 के चुनाव में कांग्रेस की सोनिया गांधी ने भाजपा के अजय अग्रवाल को पराजित कर यह सीट ...
10
11
उत्तर प्रदेश की उन्नाव लोकसभा सीट काफी अहम मानी जाती है। इस बार के चुनाव में भाजपा के साक्षी महाराज और कांग्रेस की अन्‍नू टंडन के बीच रोचक मुकाबला देखने को मिल सकता है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में साक्षी महाराज ने सपा के अरुण शंकर को पराजित कर यहां ...
11
12
शिरोमणि अकाली दल का गढ़ मानी जाने वाली पंजाब की आनंदपुर साहिब सीट पर इस बार कांग्रेस के मनीष तिवारी का मुकाबला वर्तमान सांसद शिरोमणि अकाली दल के प्रेम सिंह चंदूमाजरा से है, जो पिछले 3 चुनाव से इस सीट पर काबिज हैं।
12
13
भटिंडा में इस बार कड़ा मुकाबला होने की उम्‍मीद की जा रही है। लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस के मनप्रीत सिंह बादल को पराजित कर चुकीं शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल यहां से एक बार फिर चुनाव मैदान में हैं।
13
14
संगरूर संसदीय सीट पर मुकाबला इस बार त्रिकोणीय होने जा रहा है। यहां शिरोमणि अकाली दल ने परमिंदर सिंह ढींडसा और कांग्रेस ने केवल सिंह ढिल्‍लों को उम्‍मीदवार बनाया है, तो आप के उम्‍मीदवार भगवंत मान की प्रतिष्‍ठा दांव पर है।
14
15
बाड़मेर लोकसभा सीट से पूर्व भाजपा नेता जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को कांग्रेस ने चुनावी मैदान में उतारा है। लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए कर्नल सोनाराम ने जसवंत सिंह को मोदी लहर में मात दी थी।
15
16
इस लोकसभा सीट से एक बार फिर वसुंधरा राजे के बेटे और वर्तमान सांसद दुष्यंत सिंह मैदान में हैं। उनका मुकाबला भाजपा के बागी नेता और कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद शर्मा से है। इस सीट की गिनती भाजपा के गढ़ के रूप में होती है।
16
17
2008 के परिसीमन के बाद दो लोकसभा चुनाव में इस सीट पर एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा का कब्जा रहा, लेकिन हाल में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का दबदबा बढ़ा है। लोकसभा चुनाव 2014 में भाजपा के कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कांग्रेस के दिग्गज नेता ...
17
18
परिसीमन के दौरान आरक्षित से सामान्य हुई मुरैना लोकसभा सीट के बारे में कहा जाता है कि यहां कोई लहर काम नहीं आती, क्‍योंकि यहां चुनाव जातिगत आधार पर होता रहा है। लोकसभा चुनाव 2014 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के भानजे, भाजपा के दिग्गज ...
18
19
गुना-शिवपुरी लोकसभा सीट पर इस बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाने वाले दिग्गज नेताओं में शुमार ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनाव लड़ेंगे। गुना-शिवपुरी वो क्षेत्र हैं, जहां सिंधिया घराने का खासा दबदबा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ...
19