कैसी है मैन ऑफ द मैच रहे रोहित शर्मा की चोट? भारतीय ओपनर ने दी जानकारी (वीडियो)

पुनः संशोधित मंगलवार, 7 सितम्बर 2021 (21:20 IST)
लंदन:भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ साेमवार को यहां चौथा टेस्ट मैच जीतने के बाद कहा कि वह जितना हो सके उतनी देर तक क्रीज पर रहना चाहते थे। आज ओवल के मैदान पर शतक उनके लिए काफी खास था।

दूसरी पारी में 127 रन बना कर ‘ ’ रहे रोहित ने कहा, “ हम जानते हैं कि दूसरी पारी कितनी महत्वपूर्ण होती है। विराट ने बल्लेबाजों और पूरी टीम की ओर से जिस प्रयास का जिक्र किया वो बहुत महत्वपूर्ण था। विदेशी जमीन पर यह मेरा पहला शतक था। मैं इस बात को लेकर बहुत खुश हूं कि मैं टीम को एक मजबूत स्थिति पर ले जा सका। मेरे दिमाग में शतक नहीं था, हम बल्लेबाजी इकाई पर दबाव से परिचित थे, इसलिए हमने धैर्य रखा और स्थिति के हिसाब से बल्लेबाजी की। ”

सलामी बल्लेबाज ने कहा, “ एक बार बढ़त लेने के बाद हम सिर्फ विपक्षी टीम के गेंदबाजों पर दबाव बनाना चाहते थे। मैंने टीम के लिए योगदान देने का प्रयास किया, जो मेरे लिए महत्वपूर्ण था। मैं पारी की शुरुआत करने का महत्व जानता हूं। मुझे खुशी है कि मैं टीम के लिए कुछ कर पाया। चुनौती को स्वीकार करना हमेशा महत्वपूर्ण होता है, आगे यह आसान नहीं होने वाला है। डरहम में हमारे पास अपने प्रशिक्षण और तकनीक को देखने के लिए समय था और विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के बाद हमारे पास 20-25 दिन थे, जो सच मुच एक गेम चेंजर है। फिलहाल मेरी चोट ठीक है। फिजियो ने कहा है कि चोट का हर मिनट का आकलन करना है। ”

गौरतलब है कि शतकीय पारी के दौरान रोहित के घुटने में भी चोट लग गयी थी। घुटने की चोट के कारण वह चौथे दिन मैदान पर फील्डिंग करने के लिए नहीं उतरे थे। हालांकि पांचवे दिन वह मैदान पर लौटे और तब जाकर आशा बंधी कि वह अंतिम टेस्ट में भी भारतीय टीम के साथ रहेंगे। रोहित शर्मा ने अपने शतक के दौरान रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड तोड़े

रोहित शर्मा ने अपने शतक के दौरान रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड तोड़े।भारत के लिए उन्होंने कल 15 हजार अंतरराष्ट्रीय रन बनाने का मुकाम दूसरे दिन चायकाल के बाद हासिल किया था। अगले दिन जेम्स एंडरसन की गेंद पर स्ट्रेट ड्राइव के साथ चौका बटोर कर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक सलामी बल्लेबाज के तौर पर 11 हजार रन पूरा करने का मुकाम हासिल किया।

इसके अलावा इस साल की बड़ी उपलब्धि रोहित शर्मा के लिए यह रही कि उन्होंने साल 2021 में अपने 1000 टेस्ट रन पूरे कर लिए। उनसे पहले सिर्फ पाकिस्तान के विकेटकीपर मोहम्मद रिजवान, कप्तान बाबर आजम और इंग्लैंड के कप्तान जो रूट इस साल 1000 टेस्ट रन बना चुके हैं।

रोहित अपने 43वें टेस्ट में 3000 टेस्ट रन की उपलब्धि पर पहुंचे हैं। इस मैच से पहले तक रोहित के 42 टेस्टों में 46.17 के औसत से 2909 रन थे। रोहित ने ऑफ स्पिनर मोईन अली की गेंद पर छक्का मारकर अपना शतक पूरा किया। रोहित के 43 टेस्टों में 3023 रन हो गए हैं जिसमें आठ शतक और 14 अर्धशतक शामिल हैं। इससे पहले उनके सभी सात शतक भारतीय जमीन पर बने थे।



और भी पढ़ें :