‘करो या मरो’ के मैच में सीरीज बराबरी पर लाना चाहेगी मिताली ब्रिगेड

Last Updated: रविवार, 14 मार्च 2021 (00:50 IST)
लखनऊ: प्रदर्शन में एकरूपता की कमी से जूझ रही की अगुवाई वाली भारतीय महिला टीम रविवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक दिवसीय श्रृखंला को एक बार फिर बराबरी हासिल करने के इरादे से मैदान पर उतरेगी।

अटल बिहारी वाजपेयी इकाना अंर्तराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पर खेली जा रही पांच मैचों की एक दिवसीय श्रृखंला में दक्षिण अफ्रीका की टीम 2-1 से आगे है, इस लिहाज से कल का मैच भारतीय खेमे के लिये ‘करो या मरो’ के समान होगा। अगर टीम इस मैच को गंवाती है तो उसे घर में श्रृखंला हारने का दंश झेलना होगा जो मिताली एंड कंपनी को गंवारा नहीं होगा।

सुबह के सत्र में पिच में व्याप्त नमी का फायदा उठाने की गरज से टास जीतने वाली टीम अब तक पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला करती आयी है जिसका नतीजा उसे जीत के रूप में मिला है। इस मैदान पर दक्षिण अफ्रीका ने दो बार टास जीता और अपनी झोली में जीत की माला डाली वहीं यह सौभाग्य भारतीय टीम को एक बार मिला। हालांकि शुक्रवार को हुयी वर्षा के बाद आज लखनऊ में धूप में तेजी न के बराबर थी जिससे रविवार को पिच में नमी दोनो पारी में बने रहने के आसार है जिससे यह मुकाबला रोमांचक होने की उम्मीद है।
भारतीय खेमा इन फार्म सलामी बल्लेबाज लिजेली ली को जल्द पवेलियन लौटाने की रणनीति के साथ मैदान पर उतरेगा। पहले और तीसरे मैच ली ने शानदार बल्लेबाजी कर मेजबान टीम को शिकस्त झेलने पर मजबूर किया था। ली ने पहले एकदिवसीय में नाबाद 83 रनो की पारी खेली वहीं तीसरे मैच में उन्होने अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ 132 नाबाद बनाये।

उधर भारत की स्टार गेंदबाज झूलन गोस्वामी का साथ दूसरे छोर पर निभाने के लिये पूनम राउत और हरमन प्रीति को अपनी गेंदबाजी को और सुधार करना होगा। भारतीय खिलाडियों में मिताली राज,हरमनप्रीत और पूनम राउत के अलावा अन्य बल्लेबाजों का प्रदर्शन फीका रहा है जिसमें सुधार की जरूरत है। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच हार जीत का अंतर पैदा करने में क्षेत्ररक्षण की भूमिका अहम साबित हो सकती है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :