लॉर्ड्स टेस्ट में भारत की 151 रनों से शानदार जीत, 2 सत्र के अंदर इंग्लैंड को 120 रनों पर समेटा

Last Updated: मंगलवार, 17 अगस्त 2021 (00:05 IST)
हमें फॉलो करें
मोहम्मद शमी (नाबाद 56) और (नाबाद 34) की बेहतरीन पारियों के बाद (32 रन पर चार विकेट) और बुमराह (33 रन पर तीन विकेट) की घातक गेंदबाजी से भारत ने इंग्लैंड को दूसरी पारी में सोमवार को पांचवें और अंतिम दिन 120 रन पर ढेर कर दूसरा टेस्ट 151 रन के बड़े अंतर से जीतकर पांच मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली।
भारत की यह लार्ड्स में यह 19 मैचों में तीसरी जीत है। उसने इससे पहले 1986 और 2014 में इस ऐतिहासिक मैदान पर जीत दर्ज की थी।

भारत के पास ट्रेंट ब्रिज में भी पहला टेस्ट जीतने का अच्छा मौका था लेकिन आखिरी दिन का खेल बारिश के कारण धुल जाने से भारत के हाथ से यह मौका निकल गया ,लेकिन भारत ने लॉर्ड्स में उसकी सारी कसर निकलते हुए बेहतरीन जीत अपने नाम की। भारत ने इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 272 रन का लक्ष्य रखा था लेकिन मेजबान टीम अंतिम दिन भारतीय गेंदबाजों के सामने टिक नहीं पायी और 51.5 ओवर में 120 रन पर ढेर हो गयी।
बल्ले से हाथ दिखाने के बाद बुमराह ने गेंद से भी हाथ दिखाए और 15 ओवर में 33 रन देकर तीन विकेट झटके। सिराज ने 10.5 ओवर में 32 रन देकर सबसे ज्यादा चार विकेट निकाले। इशांत शर्मा ने 10 ओवर में 13 रन देकर दो विकेट लिए जबकि सुबह भारत की दूसरी पारी में नाबाद 56 रन बनाने वाले शमी ने 10 ओवर में 13 रन देकर एक विकेट लिया। इंग्लैंड की पारी में उसके कप्तान जो रुट ने सर्वाधिक 33 रन बनाये।

2 सेशन के अंदर ढेर हुई इंग्लैंड की बल्लेबाजी
इंग्लैंड के केवल तीन बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें रूट (60 गेंदों पर 33) और जोस बटलर (96 गेंदों पर 25 रन) भी शामिल हैं। भारतीय तेज गेंदबाजों ने शुरू से ही इंग्लैंड पर दबाव बना दिया था।

बुमराह की लेग साइड पर जा रही गेंद रोरी बर्न्स (शून्य) के बल्ले का बाहरी किनारा लेकर हवा में लहरा गयी जिसे सिराज ने दौड़ लगाकर कैच किया।

शमी ने अगले ओवर में डॉम सिब्ली (शून्य) को विकेट के पीछे कैच कराया। इंग्लैंड का स्कोर हो गया दो विकेट पर एक रन। शमी जल्द ही भारत को हसीब हमीद का विकेट भी दिला देते लेकिन स्लिप में रोहित शर्मा ने उनका आसान कैच छोड़ दिया।
भारत को हालांकि यह गलती बहुत महंगी नहीं पड़ी क्योंकि हमीद केवल नौ रन बना पाये। इशांत ने उन्हें अंदर आती गेंद पर पगबाधा कर दिया।चाय के विश्राम से ठीक पहले जॉनी बेयरस्टॉ (दो) के खिलाफ इशांत की पगबाधा की विश्वसनीय अपील अंपायर ने ठुकरा दी थी लेकिन डीआरएस में फैसला भारत के पक्ष में गया।

चाय के विश्राम के बाद बुमराह ने तीसरी गेंद पर ही रूट का महत्वपूर्ण विकेट दिला दिया। उनकी कोण लेती गेंद रूट से बल्ले का किनारा लेकर स्लिप में कोहली के पास चली गयी, लेकिन भारतीय कप्तान ने बुमराह की गेंद पर ही बटलर का आसान कैच छोड़ा। मोईन अली (42 गेंदों पर 13) ने सिराज की गेंद पर ऐसा मौका दिया तो कोहली ने कोई गलती नहीं की।
सिराज ने बायें हाथ के बल्लेबाजों को परेशान करते रहे हैं और सैम करेन के लिये की गयी उनकी गेंद बेहतरीन थी जो बल्ले को चूमकर पंत के दस्तानों में समा गयी। करेन ‘किंग पेयर’ बने। वह पहली पारी में भी पहली गेंद पर आउट हो गये थे। सिराज मैच में दूसरी बार हैट्रिक नहीं बना पाये।


खेल आगे बढ़ने के साथ गेंद नरम पड़ गयी लेकिन बुमराह ने अपनी धीमी गेंद पर ओली रॉबिन्सन (35 गेंदों पर नौ) को पगबाधा आउट कर दिया। सिराज अगले ओवर में बटलर की एकाग्रता भंग करने में सफल रहे जिन्होंने बाहर जाती गेंद को छेड़कर पंत को कैच दिया। सिराज ने इसी ओवर में जिमी एंडरसन को बोल्ड करके भारतीयों को जश्न में डुबो दिया।

बल्ले से चमके बुमराह और शमी

इससे पहले तेज गेंदबाजों मोहम्मद शमी (नाबाद 56) और जसप्रीत बुमराह (नाबाद 34) की शानदार और सर्वश्रेष्ठ पारियों की बदौलत भारत ने लंच के बाद अपनी दूसरी पारी आठ विकेट पर 298 रन बनाकर घोषित कर दी और इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 272 रन का लक्ष्य रखा।

शमी और बुमराह ने नौंवें विकेट की अविजित साझेदारी में 89 रन जोड़े। भारत ने लंच के कुछ देर बाद जाकर अपनी दूसरी पारी 298 रन पर घोषित की। शमी ने 70 गेंदों पर अविजित 56 रन में पांच चौके और एक छक्का लगाया जबकि बुमराह ने 64 गेंदों पर नाबाद 34 रन में तीन चौके लगाए।

शमी ने ऑफ स्पिनर मोईन अली पर लम्बा छक्का मारकर अपना दूसरा अर्धशतक पूरा किया। इसके बाद उन्होंने 2014 में नाटिंघम में बनाये अपने 51 रन के पिछले सर्वश्रेष्ठ स्कोर को पीछे छोड़ दिया। शमी लंच तक 67 गेंदों पर अविजित 52 रन में पांच चौके और एक छक्का लगा चुके थे । दूसरे छोर पर बुमराह ने भी गजब की परिपक्वता दिखाते हुए 58 गेंदों पर नाबाद 30 रन में दो चौके लगाए थे । दोनों के बीच तक लंच नौंवें विकेट के लिए 77 रन की सर्वाधिक साझेदारी हो चुकी है। भारत ने सुबह के सत्र में दो विकेट गंवाए और 105 रन जोड़े।
भारत ने सुबह छह विकेट पर 181 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत अभी इंग्लैंड से 154 रन ही आगे था और भारत की मैच में सारी उम्मीदें कल 14 रन पर नाबाद विकेटकीपर ऋषभ पंत पर टिकी हुई थीं। पंत ने सुबह दूसरी नयी गेंद के साथ गेंदबाजी कर रहे जेम्स एंडरसन पर क्रीज से आगे निकलकर कवर में बेहतरीन चौका मारा। लेकिन ओली रॉबिन्सन के अगले ओवर में बाहर निकलती गेंद पर बल्ला लगाकर विकेटकीपर जोस बटलर को कैच थमा बैठे। पंत ने 46 गेंदों पर एक चौके के सहारे 22 रन बनाये। नए बल्लेबाज इशांत शर्मा ने 26 गेंदों पर दो चौकों की मदद से 16 रन बनाये। उन्हें रॉबिन्सन ने पगबाधा किया।

भारत का आठवां विकेट 209 के स्कोर पर गिरा। इस समय लग रहा था कि भारत की पारी जल्द सिमट जायेगी लेकिन शमी और बुमराह ने जवाबी प्रहार करते हुए उल्टा इंग्लैंड के गेंदबाजों पर दबाव बना दिया। इंग्लैंड के कप्तान जो रुट ने अपनी फील्डिंग को फैला दिया जिसका फायदा उठाकर दोनों बल्लेबाजों ने आसानी से रन बटोरे और भारत को लंच तक 259 रन की बढ़त दिला दी।भारत ने लंच के बाद अपनी बढ़त को 271 रन पहुंचकर अपनी दूसरी पारी घोषित कर दी।

इंग्लैंड की तरफ से मार्क वुड ने 51 रन पर तीन विकेट, रॉबिन्सन ने 45 रन पर दो विकेट ,मोईन ने 84 रन पर दो विकेट और सैम करेन ने 42 रन पर एक विकेट लिया। पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले जेम्स एंडरसन को 53 रन देकर कोई विकेट नहीं मिला।




और भी पढ़ें :