मंगलवार, 23 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. जय श्री हनुमान
  4. Hanuman jayanti 2022 date
Written By
Last Updated : सोमवार, 11 अप्रैल 2022 (18:34 IST)

हनुमान जन्मोत्सव : बजरंगबली को करें इन 10 कार्यों से प्रसन्न, संकट कटेगा और सुख मिलेगा

हनुमान जन्मोत्सव : बजरंगबली को करें इन 10 कार्यों से प्रसन्न, संकट कटेगा और सुख मिलेगा - Hanuman jayanti 2022 date
Hanuman Janmotsav 2022 : 16 अप्रैल 2022 शनिवार को हनुमान जन्मोत्सव मनाया जाएगा। कलिकाल में हनुमानजी की भक्ति ही कही गई है। हनुमानजी की निरंतर भक्त करने से भूत पिशाच, शनि और ग्रह बाधा, रोग और शोक, कोर्ट-कचहरी-जेल बंधन से मुक्ति, मारण-सम्मोहन-उच्चाटन, घटना-दुर्घटना से बचना, मंगल दोष, कर्ज से मुक्ति, बेरोजगार और तनाव या चिंता से मुक्ति मिल जाती है। आओ जानते हैं कि किस तरह से करते हैं बाबा को प्रसन्न।
 
 
1. हनुमान चालीसा पढ़ें : प्रतिदिन हनुमान चालीसा पढें। वह भी एक ही जगह बैठकर।
 
2. दीपक जलाएं : प्रतिदिन हनुमानजी के समक्ष तीन कोनों वाला दीपक जलाएं। दीपक में चमेली का तेल हो।
 
3. चौला चढ़ाएं : जब भी इच्छा हो हनुमानजी को चौला चढ़ाएं, बीड़ा अर्पण करें और गुड़ एवं चने का प्रसाद चढ़ाएं।
 
4. मंत्र जप करें : 'ॐ श्री हनुमंते नमः का प्रतिदिन 108 बार जाप करें या साबरमंत्र को सिद्ध करें।
 
5. पाठ करें : माह में एक बार सुंदरकांड और बजरंगबाण का पाठ करें।
 
6. कड़ा पहनें : सिद्ध किया हुआ हनुमानजी का कड़ा पहनें। यह कड़ा पीतल का होता है।
 
7. भोग अर्पित करें : हनुमानजी को मंगलवार, शनिवार या हनुमान जयंती पर केसरिया बूंदी लड्‍डू, इमरती, बेसन के लड्डू, चूरमा, मालपुआ या मलाई-मिश्री के लड्डू का भोग लगाएं।
 
8. पूजा करें : हनुमानजी के साथ ही भगवान राम, लक्ष्मण और जानकी माता की भी पूजा अच्छे से करें।
 
9. व्रत रखें : प्रत्येक मंगलवार को व्रत रखकर विधिवत रूप से हनुमानजी की पूजा करें। आप हनुमानजी की पूर्ण भक्ति करना चाहते हैं तो फिर आपको मांस, मदिरा और सभी तरह का व्यवसन त्याग कर ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए प्रतिदिन विधि-विधान से हनुमानजी की पूजा या उनके मंत्र या नाम का जप करना चाहिए।
 
10. पान का बीड़ा अर्पित करें : यदि आप घोर संकट से घिरे हैं या कोई कार्य आप नहीं कर पा रहे हैं तो हनुमानजी को पान का बीड़ा अर्पित करके उनसे प्रार्थना करें कि अब आप ही यह बीड़ा उठाएं।