क्या है 5G? इससे कैसे आसान बनेगी आपकी जिंदगी?

Last Updated: बुधवार, 21 अक्टूबर 2020 (17:04 IST)
Jio और क्वालकॉम ने घोषणा की है कि उन्होंने रिलायंस जियो 5GNR सॉल्यूशंस और क्वालकॉम RAN प्लेटफॉर्म पर 1Gbps से ज्यादा स्पीड हासिल कर ली है। यानी अब भारत में जल्द 5G नेटवर्क की शुरुआत हो सकती है। भारत में रिलायंस जियो के साथ एयरटेल भी 5G टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है। जानकारी के अनुसार 5जी आने के बाद जीवन में कई बदलाव आएंगे। रिलायंस जियो ने भारत में 5G नेटवर्क पर 1Gbps स्पीड देने की बात कही है। जानिए क्या है 5G और कितना बदल जाएगा आपका इंटरनेट चलाने का तरीका और कितना पड़ेगा अतिरिक्त खर्च?

क्या है 5G ?: 5th जनरेशन स्पीड यानी 5G। इस नेटवर्क पर इंटरनेट स्पीड 4G की तुलना में कई गुना तेज हो जाती है। सेल्फ ड्राइविंग कारों में जिस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है वो 5G पर काम करती है। इसमें 377.2 Mbps डाउनलोड स्पीड से 1 सेकंड में 377.2 MB डेटा डाउनलोड किया जा सकता है। 1GB की कोई मूवी 3 सेकंड से भी कम समय में डाउनलोड कर सकते हैं।
जिंदगी बनेगी और स्मार्ट : 5G नेटवर्क में एक साथ कई डिवाइस को इंटरनेट से जोड़ा जा सकेगा। मोबाइल डेटा एनालिटिक्स कंपनी ओपनसिग्नल से जुड़े लैन फॉग के मुताबिक जो भी हम आज मोबाइल से कर पा रहे हैं, उसे तेज और बेहतर तरीके से कर पाएंगे। वीडियो की क्वालिटी बढ़ जाएगी, हाईस्पीड इंटरनेट शहर को स्मार्ट बना देगा और बहुत कुछ होगा जो हम अभी सोच भी नहीं सकते।

कहां है सबसे तेज 5G स्पीड : इंटरनेट स्पीड को टेस्ट करने वाली कंपनी ओपनसिग्नल की 5G नेटवर्क से रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में सबसे तेज 5G डाउनलोड स्पीड सऊदी अरब में है। सऊदी अरब में 5G नेटवर्क पर एवरेज डाउनलोड स्पीड 377.2 Mbps है। वहां पर 4G डाउनलोड स्पीड 30.1 Mbps है, जो 5G की तुलना में 12.5 गुना कम है।
दुनिया के छोटे देशों में 5G स्पीड : सबसे पहले दक्षिण कोरिया, चीन और अमेरिका में 5G सर्विस की शुरुआत हुई थी। अमेरिका, साउथ कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, स्विट्जरलैंड और जर्मनी जैसे देशों के 5G ग्राहकों को 1Gbps इंटरनेट स्पीड की सुविधा मिल रही है। भारत में अभी 5G की टेस्टिंग शुरू होने की तैयारी हो रही हो, लेकिन दुनियाभर के 68 देशों या उनकी सीमा पर शुरू हो चुकी है। इनमें श्रीलंका, ओमान, फिलीपींस, न्यूजीलैंड जैसे कई छोटे देश भी शामिल हैं।

5G देने वाली दुनिया की प्रमुख कंपनियां : दुनियाभर में अब 5G ऑपरेटर्स की लिस्ट में कई कंपनियां शामिल हैं। इनमें सबसे पहले एटीएंडटी, केटी कॉर्पोरेशन और चाइना मोबाइल ने 5G वायरलेस टेक्नोलॉजी की शुरुआत की थी।
10 गुना तक ज्यादा कीमत : अब आपके मन में एक सवाल होगा क्या 5G नेटवर्क का प्रयोग करने के लिए अति‍रिक्त खर्च करना पड़ेगा। दुनिया के देशों में 5G सर्विस के प्लान की कीमत अलग-अलग है। जानकारों के अनुसार 4G प्लान की तुलना में 5G प्लान की कीमत 10 गुना तक ज्यादा होगी। वर्तमान में देखा जाए तो 28 दिन तक रोजाना 4G डाटा वाले प्लान की कीमत 199 रुपए है, तब इसके 5G प्लान की कीमत 1500 रुपए या इससे ज्यादा हो सकती है। हालांकि 5G की शुरुआत में कंपनियां ग्राहकों को आकर्षक ऑफर दे सकती हैं।

भारत में स्थिति : भारत में अभी तक 5G तकनीक की टेस्टिंग के लिए स्पेक्ट्रम उपलब्ध नहीं हो पाया है, लेकिन अमेरिका में रिलायंस जियो की 5G टेक्नोलॉजी का सफल परीक्षण कर लिया गया। तकनीक ने सभी पैरामीटर पर अपने को बेहतरीन साबित किया है।
करीब 3 महीने पहले 15 जुलाई को रिलायंस की एजीएम में मुकेश अंबानी ने 5G टेक्नोलॉजी के बारे में घोषणा की थी। घरेलू संसाधनों का प्रयोग कर विकसित की गई इस तकनीक को देश को सौंपते हुए मुकेश अंबानी ने कहा था कि 5G स्पेक्ट्रम उपलब्ध होते ही रिलायंस जियो 5G तकनीक की टेस्टिंग के लिए तैयार है और 5G तकनीक की सफल टेस्टिंग के बाद इस तकनीक के निर्यात पर रिलायंस जोर देगा।
क्या बदलने पड़ेंगे मोबाइल? : इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों के मुताबिक 5G पूरी तरह 5G तकनीक से अलग होगा। कंपनियों के मुताबिक इस सेवा के आ जाने के बाद इंटरनेट की स्पीड 10 से 20 गुना बढ़ जाएगी। जिस प्रकार 4G आने पर
को 2G और 3G मोबाइल बदलना पड़े थे, उसी तरह संभवत: 5G के लिए भी मोबाइल बदलना पड़ेंगे। इसके लिए स्मार्ट फोन में नई चिप लगाने की आवश्यकता भी पड़ सकती है।



और भी पढ़ें :