भारत और पाकिस्तान की फौजी ताकत

ND
मुंबई में हुए आतंकी हमले के बाद भारत द्वारा पाकिस्तान को आतंकी सूची सौंपने के लिए दी गई एक माह की समय सीमा 26 दिसंबर को समाप्त हो रही है। बयानबाजी जोरों पर है और सीमा पर हलचल बढ़ गई है।

भारत चाहता है कि पाक में आतंकी ठिकानों पर हमला कर वहाँ मौजूद आतंकवादियों का सफाया कर दिया जाए। पाकिस्तान इसके लिए अभी तैयार नहीं है। वह अपनी जमीन पर भारतीय सेना की घुसपैठ को अस्मिता का संकट मानता है। कूटनीतिक स्तर पर जारी लड़ाई अंतिम दौर में है और दोनों देशों की सेनाएँ युद्ध के लिए तैयार हैं।

आइए जानते हैं कि दोनों देशों के पास कितनी सैन्य क्षमता मौजूद है और युद्ध की स्थिति में किसका पलड़ा भारी रहेगा।
ND|
(स्रोत : सेंटर फॉर एसेटेटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज तथा जैनीस डिफेंस पब्लिकेशंस)



और भी पढ़ें :