यह चुटकुला शर्तिया आपको लोटपोट कर देगा : क्या फायदा ऐसे पढ़े-लिखे होने का?


एक आदमी स्कूटर पर बैठ कर पिक्चर हाल के सामने चंपू से पूछ बैठा :-

आदमी :- भाईसाहब, स्कूटर स्टैंड कहां है ?
चंपू :- भाईसाब, पहले आप अपना नाम बताइए?

आदमी :- सोनू !

चंपू
:- आपके माता पिता क्या करते हैं ?

आदमी :- क्यों? देखिए भाईसाब मैं लेट हो जाऊंगा और पिक्चर शुरू हो जाएगी !

चंपू :- तो जल्दी बताओ ??

आदमी :- मेरी मां एक डॉक्टर हैं और मेरे पिता जी इंजीनियर हैं ! अब बता दीजिए ?

चंपू
:- आपके नाम कोई जमीन जायजाद है ?

आदमी :- हां, गांव में एक खेत मेरे नाम है ? प्लीज़ भाईसाब अब बता दीजिए स्कूटर का स्टैंड कहां है?
चंपू :- आखिरी सवाल, तुम पढ़े लिखे हो ?

आदमी :- जी हां ! मैं, MBA कर रहा हूं! अब बताइए जल्दी से !

चंपू
:- भाईसाब, देखिए आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि इतनी अच्छी है, आपके माता पिता दोनों उच्च शिक्षित हैं, आप खुद भी इतने पढ़े लिखे हैं, पर मुझे अफ़सोस है कि आप इतनी सी बात नहीं जानते कि....
स्कूटर का स्टैंड उसके नीचे लगा होता है ....

 

और भी पढ़ें :