ना फटकार से ना जूतों की बौछार से : यह है राखी का मजेदार जोक


प्रेमिका (अपने मनचले से) - ना पिताजी की मार से,
...ना मां की फटकार से,
...ना जूतों की बौछार से।
तुम्हारे जैसे लोग सुधरेंगे रक्षाबंधन के त्योहार से... ।

 

और भी पढ़ें :