कोरोना काल में दिवाली ऐसे मनाएं, जानिए 8 खास बातें

Diwali Stories
Diwali 
दिवाली की छुट्टियां हर कार्यालय और स्कूल में अलग-अलग तरह से मिलती है। परंतु इस बार तो स्कूल बंद है और कार्यालय भी अधिकतर वर्क फ्रॉम होम है और अभी कोरोना समाप्त नहीं हुआ है यह जान लेना भी जरूरी है। ऐसे में दिवाली के पांच दिनी त्योहार के दौरान आप अपनों के बीच ही दीपावली मनाएंगे तो ज्यादा बेहतर होगा।
1. धन तेरस से पहले ही घर की साज-सज्जा, रंग-रोगन, पूजा सामग्री की खीरीदी, वस्त्र खरीदना और पटाखे खरीदना आदि का काम निपटा लें। ऐसा करने से धन तेरस और दिवाली के दिन आपके पास भरपूर समय होगा। बस धन तेरस पर आपको सोना, चांदी या बर्तन ही खरीदने बाजार जाना होगा। परंतु यह भी ध्यान रखें की इस बार बाजार में भीड़ ज्यादा होगी ऐसे में सैनेटाइज साथ ले जाएं और उचित दूरी बनाएं रखें। अपने पर्सनल वाहन से ही आएं और जाएं।
2. धन तेरस पर दिन में शगुन हेतु ही खरीदारी के लिए बाहर निकलें बाकी समय घर पर यह अपने परिवार के बीच रहकर ही धनतेर का त्योहर मनाएं। यह तय कर लें कि यदि इस दिन आप बाहर भोजने करने का प्लान बना रहे हैं तो आपको अतिरिक्त सावधानी रखना होगी।

3.दीपावली के दिन घर पर ही रहकर अच्छे से दिवाली का त्योहार मनाएं। यदि आप पूजा में जितनी देर करेंगे उतना कम लुफ्त उठा पाएंगे लोगों से मिलने और पटाखे छोड़ने में, तो बेहतर होगा कि आप शाम को जो सबसे पहला मुहूर्त हो उसी में लक्ष्मीजी की पूजा अच्छे से कर लें।
4. यदि आपके यहां गोवर्धन पूजा या अन्नकूट महोत्सव नहीं मनाया जाता है तो आप नरक चतुर्दशी को सुबह जल्दी उठकर कहीं घुमने का प्लान बना सकते हैं या परिवार के बीच दीपावली मिलन कार्यक्रम को अटैंड कर सकते हैं। यह सभी कार्यक्रम दिन में ही हो तो ज्यादा उचित है। दीवाली के दूसरे दिन आप अपने घर पर ‍'दिवाली मिलन समारोह' का आयोजन करके अपने रिश्‍तेदारों को आमंत्रित कर सकते हैं या आप सभी से मिलने उनके घर जा सकते हैं।

दस सावधानियां रखें : 1.सैनिटाइज साथ रखें, 2.मास्क लगाकर रखें, 3. लोगों से उचित दूरी बनाकर रखें, 4. कहीं भी किसी वस्तु को ना छुएं, 5.हाथ ना मिलाएं, 6.खरीदी गई वस्तुओं को सैनिटाइज करें, 7.भीड़ से बचें, 8.हाथों को समय-समय पर धोते रहें, 9. खरीदारी के दौरान ग्लव्स पहनें और 10.मुंह को तब तक ना छुएं जब तक की अच्‍छे से हाथ ना धो लें।

5. दीवाली के तीसरे दिन अर्थात भाईदूज पर आप अपनी बहन या भाई के घर जाकर इस त्योहार को मना सकते हैं और कहीं घूमने का प्लान भी बना सकते हैं। यदि बहन बहुत दूर रहती है तो आप सार्वजनिक वाहन में सफर करने से बचें। अपने खुद के साधन से ही जाएं और यदि ऐसा नहीं कर सकते हैं तो आप इस बार भाईदूज नहीं मनाएंगे तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा, वर्चुअल साधन का भी उपयोग कर सकते हैं।
6. बहुत से ऐसे लोग हैं जो कि अपने शहर से बाहर या अपने प्रदेश से बाहर किसी अन्य प्रदेश या शहर में नौकरी कर रहे हैं उन्हें तो लंबी छुट्टी की आवश्यकता होती है। ऐसे में वे लोग अपने परिवार के साथ ही अपने नगर चले जाते हैं। यदि वे लोग छुट्टियों को अच्छे से प्लान करें तो दीपावली को अपने घर पर पूजा-पाठ करने के बाद कहीं घुमने जा सकते हैं। इसके लिए अपने खुद के वाहन का ही उपयोग करें।
7. कुछ ऐसे लोग हैं जो कि सोचते हैं कि इस बार की दिवाली कहीं ओर मनाई जाए। वे लोग अपने गांव चले जाते हैं या किसी खास रिश्‍तेदार के यहां दिवाली मनाते हैं। आप भी ऐसा कर सकते हैं। इस बार की दिवाली आप अपने संयुक्त परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर मना सकते हैं या किसी खास जगह पर एंजॉय कर सकते हैं। इसके लिए अपने खुद के वाहन का ही उपयोग करें।


8. कई क्षेत्रों में तो दिवाली पर मेला भी लगता है। ग्रमीण क्षेत्रों में मवेशियों को अच्‍छे से सजाया जाता है और कई तरह के खेलों का आयोजन भी होता है। परंतु हमारी सलाह है कि आप भीड़ से बचें और अपने परिवार और रिश्तेदारों के बीच ही दिपावली मनाएं।



और भी पढ़ें :