मध्यप्रदेश में फिर बढ़ रहे कोरोना के केस,इंदौर में दूसरे राज्यों से आने वालों से संक्रमण फैलने का खतरा,तत्काल हो सावधान:शिवराज

तीसरी लहर को लेकर CM शिवराज ने चेताया

Author विकास सिंह| पुनः संशोधित शुक्रवार, 2 जुलाई 2021 (18:20 IST)
हमें फॉलो करें

भोपाल। आएगी ही और प्रदेश में कोरोना के केस एक बार फिर बढ़ने लगे है इसलिए आप लोग लापरवाही नहीं करें। यह कहना है मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का। भोपाल में एक अस्पताल के लोकार्पण के मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना का संकट अभी टला नहीं है इसलिए लोग लापरवाही नहीं बरते। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के साथ वैक्सीन जरुर लगवाएं क्योंकि अब वह प्रदेश में फिर लॉकडाउन की नौबत नहीं आने देना चाहते हैं।
शिवराज ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के केस एक बार फिर लगातार बढ़ने लगे है। तीन दिन पहले प्रदेश में पहले 33 केस आए थे फिर 38, 40 और आज 43 केस आए है। इसलिए लोग निश्चिंत नहीं हो और मास्क लगाने के साथ कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित में है और सरकार लगातार सैंपलिग करके बीमारी को फिर से फैलने को रोकने की कोशिश कर रही है। तीसरी लहर को रोकना जरुरी है इसलिए लोगों वैक्सीन की दोनों डोज जरुर लगवाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट का खतरा लगातार बढ़ रहा है। दुनिया के कई देश कोरोना की तीसरी लहर और चौथी लहर की चपेट में है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश में अब तक 10 कोरोना संक्रमित मरीजों में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हो चुकी है।


वहीं देश शाम कोविड नियंत्रण से जुड़े मंत्री समूहों की बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि जानकारों के मुताबिक सितंबर-अक्टूबर तक कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है इसलिए सितंबर तक पूरी तैयारी करनी होगी।
बैठक में भोपाल और इंदौर पर विशेष चर्चा कर बड़े पैमाने पर कोरोना टेस्ट करने और माइक्रो कंटेनमेंट पर फोकस करने की बात कही।

मुख्यमंत्री ने इंदौर में अन्य राज्यों से आने वाले लोगों से संक्रमण फैलने की संभावना जताते हुए तत्काल सावधान होने की जरूरत बताते हुए इस विषय पर क्राइसिस मैनेजमेंट में चर्चा करनी की बात कही। मुख्यमंत्री ने लोगों को सावधान करने और मास्क लगाने के साथ कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश दिए। इंदौर में वर्तमान में हर दिन 9 से 10 हजार टेस्ट किये जा रहे हैं।

वहीं महाराष्ट्र से सटे बैतूल में सावधानी ज्यादा रखने के निर्देश दिए गए है। जिले में ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करने और लापरवाही न करने की बात कही गई।






और भी पढ़ें :