कोरोना के खतरे के बीच शाही स्नान के लिए महाकुंभ में उमड़े श्रद्धालु

हिमा अग्रवाल| Last Updated: सोमवार, 12 अप्रैल 2021 (11:59 IST)
हरिद्वार। कोरोना संकट के दौरान भी भक्तों का लगातार हरिद्वार पहुंचना जारी है। हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गंगा स्नान करने कुंभ के दूसरे में हर कोई श्रद्धालु पुण्य प्राप्त करना चाहता है जिसके चलते भक्तों का हरिद्वार में तांता लगा हुआ है। आज सोमवार को चैत्र मास की सोमवती अमावस्या है। इस दिन का विशेष महत्व है। सोमवती अमावस्या पर श्रद्धालु पीपल की पूजा करते हैं और पुण्य लाभ प्राप्त करते हैं।
हरिद्वार में कोरोना की दूसरी लहर का विस्तार तेजी से हो रहा है। इसके बावजूद हर की पौड़ी पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जमा है जिसको देखकर कहा जा सकता है कि आस्था के महापर्व कोरोना पर भारी पड़ रहा है। हरिद्वार प्रशासन और मेला प्रशासन ने कुंभ मेले में कोविड नियमों का पालन करवाने की हरसंभव कोशिश की है। लेकिन कुंभ के दूसरे शाही स्नान और सोमवती अमावस्या पर हर की पौड़ी पर भारी भीड़ जमा होने के कारण सामाजिक दूरी बनाने के नियम का कोई फायदा नहीं हो रहा है। हर छोर पर उसकी धज्जियां उड़ती नजर आ रही है।
हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गंगा स्नान हेतू शाही स्नान में भाग लेने के लिए श्री निरंजनी पंचायती अखाड़ा और श्री आनंद अखाड़ा मायापुर से सुबह ही निकल गया। इस अखाड़े का नेतृत्व आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरि कर रहे हैं और वह अखाड़े के शाही स्नान जलूस में हर की पौड़ी की तरफ बढ़ रहा है। नेपाल नरेश ज्ञानेंद्र वीर विक्रम सिंह अपने रथ पर सवार होकर हर की पौड़ी में अपने अनुयायियों के साथ शाही स्नान के लिए जा रहे हैं और हेलीकॉप्टर इन अनुयायियों पर पुष्पवर्षा कर रहा है। आसमान से रंग-बिरंगे पुष्पों की वर्षा का आयोजन उत्तराखंड सरकार द्वारा कराया जा रहा है।

हरिद्वार में इस समय कुंभ के दूसरे शाही स्नान पर धूम मची हुई है। नागा साधु अपने करतब दिखाते हुए हर की पौड़ी पर कुंभ के शाही स्नान के लिए जा रहे हैं और आसमान से हेलीकॉप्टर पुष्पवर्षा कर रहे हैं। जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि अपने अखाड़े के नागा संन्यासी का नेतृत्व कर रहे हैं। कुंभ नगरी हरिद्वार में पिछले 24 घंटों में 1,333 केस आए हैं जिसके चलते कुंभ मेले में कोरोना के फैलने का खतरा भी बढ़ गया है।

कोरोना के ऐसे खतरे को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने कोरोना की गाइडलाइन का सख्ती से पालन करने का फैसला किया है। कुंभ में आने वाले सभी यात्रियों की हरिद्वार आने वाली सभी सीमाओं पर जांच की जा रही है। सरकार से यह भी फैसला किया है कि कोरोना जांच की नेगेटिव रिपोर्ट के और पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के बिना उत्तराखंड में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
हालांकि बीते कल रविवार को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र नरेंद्र गिरि के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया। महेंद्र नरेंद्र गिरि से कुंभ में कई वीआईपी व भक्त भी मिले हैं जिसके चलते हरिद्वार प्रशासन कुंभ मेले को लेकर अधिक सतर्क हो गया है। कुंभ मेले में आए साधु-संत गंगा मैया से प्रार्थना कर रहे हैं कि वे जल्दी स्वस्थ हों।



और भी पढ़ें :