1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. छठ पूजा
  4. chhath ki aarti
Written By

chhath ki aarti : छठ मैया की प्राचीन आरती

जय छठी मैया ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए। 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए॥जय॥ 
 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय। 
ऊ जे नारियर जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए॥जय॥ 
 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए। 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय॥जय॥ 
 
अमरुदवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए। 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए॥जय॥
 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय। 
शरीफवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए॥जय॥ 
 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए। 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय॥जय॥ 
 
ऊ जे सेववा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़राए। 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए॥जय॥ 
 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय। 
सभे फलवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मंडराए॥जय॥
 
मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए। 
ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय॥जय॥

 
ये भी पढ़ें
jhansi ki rani : पढ़ें झांसी की रानी महारानी लक्ष्मीबाई की वीरता की कहानी