...इसलिए कि हौसले बुलंद हैं-पवन बंसल

WD|
FILE
नई दिल्ली। केंद्रीय रेल मंत्री द्वारा रेल बजट पेश करनदौराशायरानअंदामेनजआए।

उन्होंने बजट पेश करते समय बीच-बीच में कहा-

* न बहारों से बात करनी है, न चांद सितारों से बात करनी है, जब दरिया को पार करना हो तो किनारों से बात करनी है।

*दरख्त पर बैठे परिंदे को गिरने का डर नहीं। इसलिए नहीं कि शाखा मजबूत है, इसलिए कि हौसला बुलंद है।
*हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, हर हाल में सूरत बदलनी चाहिए।
- वेबदुनिया



और भी पढ़ें :