पृथ्वी की सतह पर फैले 14 अदभुत नजारे

Last Updated: शुक्रवार, 20 मार्च 2015 (12:36 IST)

सलार डे यूनी, बोलविया: यह खूबसूरत नजारा 10582 वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है। दुनिया का सबसे बड़ा मैदानी नमक का इलाका। बारिश के दिनों में नमक बहकर आस पड़ोस की झील में फैल जाता है और झील के पानी को बड़े दर्पण में बदल देता है। इस इलाके में लिथियम काफी पाया जाता है।

 
पामुकाले ट्रावेर्टाइन टेरेस, टर्की : इसे कॉटन कासल के नाम से भी जाना जाता है और ये प्राचीन रोमन शहर हेयरोपोलिस से सटा हुआ है। ये टेरेस और शहर दोनों यूनेस्को के वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल हैं।

 
पिच लेक, त्रिनिदाद: ये काले रंग की झील दुनिया का सबसे बड़ा प्रकृतिक टार और डॉमर भंडार है। टार और डामर में पानी की बूंदे मिलकर कई तरह के जैविक जंतुओं को जन्म देती है। इस लिहाज़ से इस झील में ऐसे असंख्य जंतुओं की मौजूदगी है।
लोकटाक लेक, भारत: भारत के मणिपुर में स्थित ये झील बायो-जैविक तौर पर संपदा से भरी है। इस झील में भारतीय अजगर और होलॉक प्रजाति के लंगूर पाए जाते हैं। झील धब्बेदार जमीनी और वनस्पतीय हिस्से से भरा है, जिसे फूमडी कहते हैं। इसका पानी नजदीकी हायड्रोपॉवर प्रोजेक्ट के लिए भी इस्तेमाल होता है।
मानीकूगन रिज़रवोयर, कनाडा: इसे आई ऑफ क्यूबेक कहते हैं। मानीकूगन झील, एक उल्का के गिरने से बना है। हालांकि इसके मध्य का हिस्सा ऊंचाई वाला है। सबसे ऊंची जगह को माउंट बेबल कहते हैं। ये झील करीब 2000 किलोमीटर के इलाके में फैली हुई है।
 


और भी पढ़ें :