Ayodhya case : सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 बड़ी बातें...

पुनः संशोधित शनिवार, 9 नवंबर 2019 (11:55 IST)
अयोध्या विवाद के ऐतिहासिक फैसले में ने बहुत अच्छा फैसला दिया है। इसके मुताबिक विवादित जमीन के लिए देने के निर्देश दिए हैं, वहीं मुस्लिम पक्ष को अलग से जमीन देने की बात कही है। आइए जानते हैं फैसले से जुड़ी 10 महत्वपूर्ण बातें...

1. सुप्रीम कोर्ट ने विवादित स्थान पर माना रामलला का दावा। इसके साथ ही अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता पूरी तरह साफ हो गया है।

2. सुप्रीम कोर्ट ने जमीन के 3 हिस्से किए जाने के इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को सही नहीं मानते हुए संपूर्ण विवादित भूमि को सबूतों के आधार पर राम जन्मभूमि न्यास को दी।

3. कोर्ट के अनुसार 2.77 एकड़ जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए दी जाएगी। मंदिर बनाने के लिए राम जन्मभूमि न्यास को मिलेगी जमीन।
4. केन्द्र सरकार को कोर्ट ने मंदिर बनाने के लिए तीन माह में ट्रस्ट बनाने के आदेश दिए। केंद्र सरकार राम मंदिर बनाने के लिए नियम बनाएगी।

5. सुप्रीम कोर्ट ने विवादित भूमि पर निर्मोही अखाड़ा और का दावा खारिज किया।

6. सुप्रीम कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड (मुस्लिम पक्ष) को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन केंद्र सरकार को देने का आदेश दिया। मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए जमीन मिलेगी।

7. केंद्र के पास 67.7 एकड़ अधिगृहित जमीन है, उसमें से केंद्र सरकार 5 एकड़ जमीन दे सकती है या अलग से अयोध्या में या सरयू पार जमीन दे सकती है।

8. सुप्रीम कोर्ट ने माना मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनाई गई थी। विवादित ढांचे के नीचे मंदिर होने के सबूत पाए गए, जबकि ईदगाह या इस्लामिक ढांचा होने के सबूत नहीं मिले।

9. हिन्दु्ओं की आस्था है कि अयोध्या में राम का जन्म हुआ था। अदालत में भी किसी पक्ष ने इस बात का विरोध नहीं किया राम का संबंध अयोध्या से नहीं था। यात्रियों के वृत्तांत और पुरातात्विक सबूत भी हिन्दुओं के पक्ष में।
10. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हिन्दू पक्ष ने राम से जुड़े ऐतिहासिक ग्रंथों के पक्ष रखे। हिन्दू आस्था गलत होने का कोई प्रमाण नहीं।


और भी पढ़ें :