शुक्रवार, 1 मार्च 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. ज्योतिष
  3. ज्योतिष आलेख
  4. Vivah muhurat February 2023
Written By
Last Modified: सोमवार, 30 जनवरी 2023 (18:21 IST)

फरवरी 2023 में शादी के 13 मुहूर्त में से 4 मुहूर्त हैं सबसे खास

फरवरी 2023 में शादी के 13 मुहूर्त में से 4 मुहूर्त हैं सबसे खास - Vivah muhurat February 2023
Shadi ke muhurat February 2023 : वर्ष 2023 के फरवरी माह में विवाह के कुल 13 शुभ मुहूर्त है। यदि कोई जातक इस माह में इन 13 शुभ दिनांक को विवाह करना चाहता है तो कर सकता है। इन दिन शुभ मुहूर्त में आप जब चाहें विवाह कर सकते हैं लेकिन यदि आप सबसे शुभ दिनांक और मुहूर्त में विवाह करना चाहते हैं तो ऐसी 4 दिनांक हैं।
 
फरवरी 2023 विवाह मुहूर्त : 6, 7, 8, 9, 10, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 22, 23 और 28 फरवरी को विवाह के शुभ मुहूर्त हैं यानी फरवरी में 13 शुभ दिन उपलब्ध हैं। 
 
4 शुभ दिनांक : शुभ दिनांक के लिए हमें लग्न, शुक्र और गुरु की स्थिति देखने चाहिए। इसी के साथ शुभ तिथि का भी महत्व है।द्वितीया तिथि, तृतीया तिथि, पंचमी तिथि, सप्तमी तिथि, एकादशी तिथि और त्रयोदशी तिथि विवाह के लिए शुभ होती है। यानी 6 फरवरी, 7 फरवरी, 10 फरवरी, 12 फरवरी, 15 फरवरी और 22 फरवरी का दिन शुभ है, लेकिन इसमें भी पंचमी यानी 10 फरवरी, सप्तमी यानी 12 फरवरी, एकादशी यानी 15 फरवरी, तृतीया यानी 22 फरवरी का दिन सबसे शुभ है। यानी 10, 12, 15 और 22 फरवरी को है सबसे शुभ दिन।
 
नोट : आप चाहें तो इनमें से किसी भी दिन शुभ मुहूर्त निकाल कर शादी कर सकते हैं। विवाह के पूर्व योग, नक्षत्र और लग्न भी देख लें कि इन तारीखों में से कौन सा दिन ज्यादा शुभ है।
 
3. गोधुली वेला : शादी करने के लिए अभिजीत मुहूर्त और गोधुली वेला को सबसे शुभ माना गया है। 
 
4. विवाह के लिए अनुकूल तिथियां- द्वितीया तिथि, तृतीया तिथि, पंचमी तिथि, सप्तमी तिथि, एकादशी तिथि और त्रयोदशी तिथि विवाह के लिए शुभ होती है।
Shubh Vivah Muhurat 2023
5. शुभ तारा : विवाह के समय शुक्र और बृहस्पति तारा उदय होना चाहिए।
 
6. शुभ योग : विवाह के लिए निम्नलिखित 3 योग शुभ माने जाते हैं। उपरोक्त वर्णित विवाह की दिनांक में जब भी ये योग हो उस योग को सबस शुभ मानें। ये योग हैं- प्रीति योग, सौभाग्य योग और हर्षण योग। यदि उपरोक्त तारीख में यह योग नहीं है तब भी इस योग में विवाह किया जा सकता है, क्योंकि यह शुभ योग है।
ये भी पढ़ें
गोरखनाथ मंदिर से जुड़ी परंपरा का क्या है रहस्य?