संक्रांति या माता-पिता के नक्षत्र में हुआ है जन्म तो करें ये उपाय

sankranti nakshatra dosha
अनिरुद्ध जोशी| पुनः संशोधित शनिवार, 25 जनवरी 2020 (11:03 IST)
ज्योतिष के अनुसार संक्रांति को जन्म लेने से लगता है लेकिन कौन सी संक्रांति यह जानना भी जरूरी है। इसी तरह यह भी मान्यता है कि माता-पिता के में जन्म लेने वाले जातक को भी नक्षत्र दोष लगता है। इसके पीछे का ‍कारण या विज्ञान क्या है यह फिर कभी लेकिन असके उपाय जरूर जानिए।

1.संक्रांति दोष : सूर्य की 12 संक्रातियां होती हैं। उनमें से कुछ शुभ और कुछ अशुभ मानी गई हैं। ग्रहों की संक्रांतियों के नाम घोरा, ध्वांक्षी, महोदरी, मंदा, मंदाकिनी, मिश्रा और राक्षसी इत्यादि हैं। कहते हैं कि सूर्य की संक्रांति में जन्म लेने वाला दरिद्र हो जाता है इसलिए शांति करानी आवश्यक है।


उपाय- इस दोष निवारण हेतु विधि-विधान के साथ नवग्रह का यज्ञ करते हैं। उत्तरमुखी मकान में रहें और लक्ष्मी माता की पूजा करें।

2.माता-पिता के नक्षत्र में हुआ है जन्म तो करें ये उपाय

कहते हैं कि यदि माता-पिता या सगे भाई-बहन के नक्षत्र में जातक का जन्म हुआ है तो उसको मरणतुल्य कष्ट होता है, ऐसा ज्योतिष मानते हैं।


उपाय- इस दोष निवारण हेतु किसी शुभ लग्न में अग्निकोण से ईशान कोण की तरफ जन्म नक्षत्र की सुंदर प्रतिमा बनाकर कलश पर स्थापित करें फिर लाल वस्त्र से ढंककर उपरोक्त नक्षत्रों के मंत्र से पूजा-अर्चना करें फिर उसी मंत्र से 108 बार घी और समिधा से आहुति दें तथा कलश के जल से पिता, पुत्र और सहोदर का अभिषेक करें। यह कार्य किसी पंडित के सान्नि‍ध्य में विधिपूर्वक करें।


और भी पढ़ें :