सिंहासन बत्तीसी : बीसवीं पुतली ज्ञानवती की कहानी

FILE

तभी ज्योतिषी की नजर जमीन पर पड़े पदचिन्हों पर गई। उसने कहा, 'ये पदचिन्ह किसी राजा के हैं और सत्यता की जांच तुम खुद कर सकते हो। ज्योतिष के अनुसार राजा के पांवों में ही प्राकृतिक रूप से कमल का चिन्ह होता है जो यहां स्पष्ट नजर आ रहा है।'

WD|
उसके दोस्त ने सोचा कि सत्यता की जांच कर ही ली जाए, अन्यथा यह ज्योतिषी बोलता ही रहेगा। पदचिन्हों का अनुसरण करते-करते वे जंगल में अन्दर आते गए।



और भी पढ़ें :