टाटा, एसआईए ने एयरलाइन उपक्रम का गठन किया

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 10 नवंबर 2013 (19:33 IST)
FC
नई दिल्ली। घरेलू व अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर पूर्णकालिक एयरलाइन शुरू करने की तैयारी कर रहे टाटा समूह ने अपने प्रस्तावित विमानन उपक्रम टाटा एयरलाइंस लि. का पब्लिक लि. कंपनी के रूप में गठन कर लिया है। इसके लिए समूह ने कारपोरेट मामलों के मंत्रालय के पास सभी जरूरी दस्तावेज व ब्योरा जमा करा दिया है।

नई कंपनी टाटा तथा सिंगापुर एयरलाइंस का संयुक्त उपक्रम है। टाटा संस के पास इसमें बहुलांश 51 प्रतिशत की हिस्सेदारी है, जबकि सिंगापुर विमानन क्षेत्र की कंपनी के पास शेष 49 फीसद की हिस्सेदारी है।

कारपोरेट मामलों के मंत्रालय के पास उपलब्ध सूचना के अनुसार नई कंपनी का गठन 5 नवंबर को 5 लाख रपये की कुल चुकता पूंजी के साथ किया गया। कंपनी का पंजीकरण नई दिल्ली में कराया गया है।
इस दस्तावेज पर तीन निदेशकों प्रसाद मेनन, केरसी रस्तम भगत तथा मुकुंद गोविंद राजन के हस्ताक्षर हैं। पिछले महीने विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) ने एसआईए के संयुक्त उद्यम में 4.9 करोड़ डॉलर के निवेश को मंजूरी दी थी। उद्यम में टाटा समूह अपनी हिस्सेदारी के अनुपात में 5.1 करोड़ डॉलर का शुरुआती निवेश कर रहा है।

इससे पहले संयुक्त उद्यम को ‘टाटा एसआईए एयरलाइंस लि’ के नाम का इस्तेमाल करने की कारपोरेट मामलों के मंत्रालय की मंजूरी मिली थी। नए कंपनी कानून, 2013 के तहत गठित होने वाली टाटा एसआईए एयरलाइंस पहली प्रमुख कंपनियों में से है। दोनों भागीदार कंपनी में 10 करोड़ डॉलर का शुरुआती निवेश कर रहे हैं। एयरलाइंस के सभी मंजूरियां हासिल करने के बाद अगले साल उड़ान भरने की उम्मीद है। (भाषा)



और भी पढ़ें :