श्री सरस्वती चालीसा

 
WD

 

दोहा 

जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि।

बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥

पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु।

दुष्टजनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥

 

 



सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :