मंगलवार, 27 फ़रवरी 2024
  • Webdunia Deals
  1. खेल-संसार
  2. क्रिकेट
  3. टी-20 विश्व कप 2022
  4. Pakistan depends on pace battery in T20 World Cup with feeble middle order
Written By अविचल शर्मा
Last Modified: मंगलवार, 18 अक्टूबर 2022 (18:31 IST)

गेंदबाजों के भरोसे T20 WorldCup जीतने उतरी पाकिस्तान की यह है बड़ी कमजोरी

गेंदबाजों के भरोसे T20 WorldCup जीतने उतरी पाकिस्तान की यह है बड़ी कमजोरी - Pakistan depends on pace battery in T20 World Cup with feeble middle order
पिछले साल टी-20 विश्वकप 2021 के पहले मैच में भारत को 10 विकेटों से हराने के बाद पाकिस्तान क्रिकेट की काया कलप हो गई। इस टूर्नामेंट में वह सेमीफाइनल तक पहुंचे। वैसे टी-20 विश्वकप के पहले 4 टूर्नामेंट में पाक अंतिम 4 में आने में सफल रही।

वनडे विश्वकप, टी-20 विश्वकप और चैंपियन्स ट्रॉफी जीतने वाली पाकिस्तान आईसीसी टूर्नामेंट में एक अलग टीम हो जाती है। हालांकि कभी कभार टीम को विफलता भी मिलती है। टीम ने पहला विश्वकप ऑस्ट्रेलिया में ही जीता था। इससे यह पता चलता है कि टीम की ताकत क्या है।

ताकत- पाकिस्तान की सबसे बड़ी ताकत है उनकी तेज गेंदबाजी जो बरसों से जस की तस है। शाहीन अफरीदी टीम के सबसे बड़े तुरुप के इक्के हैं। एशिया कप में डेब्यू करने वाले नसीम शाह गेंद को तेजी से स्विंग कराते हैं। बिग बैश में खेलने वाले हैरिस राउफ मुख्य डेथ गेंदबाज बन चुके हैं। लगभग सभी गेंदबाज 145 प्रति घंटे से ज्यादा की गेंद डालते हैं। उसके बाद बैंच पर बैठे हसनैन, बुदानी और मोहम्मद वसीम को देखकर लगता है कि पाक कप्तान किसे अंतिम 11 में मौका दे और किसे बाहर बैठाए।

कमजोरी- पाकिस्तान की सबसे बड़ी कमजोरी है उनकी मध्यक्रम बल्लेबाजी। पाकिस्तान ने पिछले 1 साल से अपने रनों का भार सलामी बल्लेबाज कीपर मोहम्मद रिजवान और बाबर आजम के कंधो पर डाल रखा है। पिछले 1 साल से यह दोनों टीम के 70 प्रतिशत रन बनाते हैं।फकर जमान बुरे फॉर्म से गुजर रहे हैं। हाल ही में पाकिस्तान का मध्यक्रम न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल में चला था लेकिन यह टी-20 विश्वकप में चल पाएगा, यह एक बड़ा सवाल है।

इन खिलाड़ियों पर होगी नजर

मोहम्मद रिजवान- पाकिस्तान के विकेटकीपर  मोहम्मद रिजवान टी-20 अंतरराष्ट्रीय के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज है। उनका 50 पार जाना मतलब टीम का बड़ा स्कोर। टीम उन पर काफी ज्यादा निर्भर है।

बाबर आजम- बाबर आजम एक बड़ा नाम है हालांकि एशिया कप से वह रंग में नहीं नजर आ रहे। उन पर कप्तानी के साथ सलामी बल्लेबाजी का भी भार रहेगा। वह इन दोनों जिम्मेदारियों को कैसे निभाते हैं इस पर नजर रहेगी।

शाहीन अफरीदी- लंबे समय बाद घुटने की चोट से उबर कर टीम में आए शाहीन अफरीदी टीम के एक्स फैक्टर है जो टीम के लिए विकेट निकालते हैं। ऑस्ट्रेलिया की पिच पर उनको स्विंग मिलने की बहुत संभावना है।

नसीम शाह-  एशिया कप में पहले ही ओवर में विकेट निकालने वाले नसीम शाह ने टीम को शाहीन अफरीदी की कमी नहीं खलने दी। नसीम शाह ने बहुत जल्द टीम में जगह बना ली। युवा गेंदबाज पर सबकी निगाहें रहेंगी।

हैरिस राउफ- इस गेंदबाज ने एशिया कप में बताया कि वह ना केवल अंतिम ओवर में बल्कि मध्य के ओवरों में तेजी से गेंद डालकर विकेट निकालना जानते हैं। वह बिग बैश के कारण ऑस्ट्रेलिया के मैदानों से भली भांति परिचित है। इस कारण उनका प्रदर्शन देखने लायक होगा।

पाकिस्तान की टी-20 विश्वकप टीम इस प्रकार है:-बाबर आजम (कप्तान), शादाब खन (उपकप्तान), आसिफ अली, हैदर अली, हरीस राउफ,इफ्तिखार अहमद,,खुशदिल शाह,मोहम्मद हसनैन,मोहम्मद नवाज,मोहम्मद रिजवान, मोहम्मद वसीम, नसीम शाह,शाहीन अफरीदी,शान मसूद,फखर जमान।

अतिरिक्त खिलाड़ी :-मोहम्मद हरीस और शहनवाज दहानी
ये भी पढ़ें
लंबे इंतजार के बाद श्रीलंका को मिली खिताबी जीत, 2014 का विश्वकप जीत संगाकारा और जयवर्धने को दी थी विदाई