श्रावण मास 2021 : 4 सोमवार के 4 श्रेष्ठ संयोग, शिव पूजा का मिलेगा कई गुना शुभ फल


पहला सोमवारः 26 जुलाई को श्रावण मास का पहला सोमवार था। इस दिन धन प्रदाता धनिष्ठा नक्षत्र, सौभाग्य के बाद शोभन योग, वरियानऔर महाशुभ नामक औदायिक योग बना था। इस दिन के व्रत से आर्थिक लाभ का योग था।

दूसरा सोमवारः दो अगस्त को श्रावण मास का दूसरा सोमवार है। इस दिन कृतिका के बाद रोहिणी नक्षत्र, वृद्धि योग, गर करण और सुस्थिर नामक औदायिक योग है। चंद्रमा उच्चाभिलाषी है। इस दिन के व्रत से स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति एवं संतान पक्ष के अभ्युदय का योग मिलेगा।
तीसरा सोमवारः नौ अगस्त को श्रावण मास का तीसरा सोमवार है। इस दिन अश्लेषा के बाद मघा नक्षत्र, वरियान योग, किंस्तुघ्न करण और औदायिक योग सौम्य का मान है। इस दिन के व्रत से पुण्य की अभिवृद्धि और पूर्वाजित पापों का क्षय होगा।

चौथा सोमवारः 16 अगस्त को श्रावण मास का तीसरा सोमवार है। इस दिन अनुराधा नक्षत्र, ब्रह्म योग, वरियान और मानस नाम का औदायिक योग है। इस दिन के व्रत से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। साथ ही मोक्ष की प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त होगा।


श्रावण मास शुरू, पढ़ें विशेष सामग्री

ALSO READ:श्रावण मास से शुरू होंगे सोलह सोमवार, पढ़ें 16 सोमवार के 16 जरूरी नियम

ALSO READ:
Somwar 2021: इस बार कितने हैं सावन सोमवार और कैसे करें पूजा





और भी पढ़ें :