बुधवार, 17 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. श्राद्ध पर्व
  4. What is the significance of Dashami Shradh
Written By
Last Modified: सोमवार, 19 सितम्बर 2022 (12:24 IST)

क्या महत्व है दशमी के श्राद्ध का?

Gajchhaya Yog n Shradh
पितृपक्ष में श्राद्ध कर्म करने से पितृदोष से मुक्ति मिलने के साथ ही पितरों को भी मुक्ति मिलती है। इसलिए श्राद्धपक्ष में पिंडदान और तर्पण जरूर करना चाहिए। पितृपक्ष में दशमी के श्राद्ध का खासा महत्व बताया गया है। दशामी को जिनका देहांत हुआ है उनका श्राद्ध इस दिन करना चाहिए। आओ जानते हैं कि इस श्राद्ध का क्या है महत्व और इसे करने से क्या मिलेगा फल।
 
1. यदि आपके पितरों की या दिवंगतों की मृत्यु दशमी के दिन हुई है तो आप दशमी का श्राद्ध विधिवत रूप से करें। 
 
2. इस दिन गीता के दसवें अध्याय का पाठ भी करें या करवाएं।
 
3. दशमी तिथि को श्राद्ध करने वाला मनुष्य ब्रह्मत्व की लक्ष्मी प्राप्त करता है।
 
4. दश्मी तिथि के दिन श्राद्ध करने वाले व्यक्ति को कभी भी लक्ष्मी की कमी नहीं होती। उसके पास धन-सम्पदा बनी रहती है।
 
5. दशमी श्राद्ध में उचित विधि से पिंडदान और तर्पण करने से कष्ट भोग रहे पितरों को स्वर्गलोक की प्राप्ति होती है। 
 
6. इस दिन कूप में पिंडदान करने से श्राद्ध करने वाले व्यक्ति को अश्‍वमेघ यज्ञ का फल प्रदान होता है।
 
7. इस दिन पंचबलि भोग लगाने के साथ ही ब्रह्मण भोज कराएं और यथाशक्ति दान दें। 
ये भी पढ़ें
Indira Ekadashi : इंदिरा एकादशी कब है? क्या है कथा, किस शुभ मुहूर्त में करें पूजा