Farmer Protest Live: बेनतीजा रही किसानों और सरकार के बीच बातचीत, शनिवार को हो सकती है अगली बैठक

Last Updated: शनिवार, 5 दिसंबर 2020 (19:07 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन आठवें दिन भी जारी है। सरकार और किसान संगठनों के साथ गुरुवार को हुई चौथे दौर की बैठक में कोई निर्णय नहीं हो सका। हालांकि सरकार ने किसानों की कुछ मांगों के प्रति नरम रुख के संकेत दिए हैं। 7 घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल तथा वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश एवं किसानों के चालीस प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। तोमर ने बताया कि सौहार्द पूर्ण वातावरण में बातचीत हुई और दोनों पक्षों ने अपना अपना तर्क रखा। उन्होंने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य व्यवस्था जारी रहेगी और इस पर किसानों की शंका का समाधान किया जाएगा। तोमर ने कहा कि किसानों को आशंका है कि नए कृषि कानून से एपीएमसी व्यवस्था समाप्त हो जाएगी जबकि सरकार इस व्यवस्था को और मजबूत करना चाहती है। नए कानून से निजी मंडी आएगी और सरकार दोनों मंडियों में समान कर प्रणाली लागू करने का प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि व्यापार में विवाद होने पर किसानों को एसडीएम के यहां अपील करने पर आपत्ति है जिसके कारण वे न्यायालय में जाने की व्यवस्था भी चाहते हैं। सरकार इस पर भी विचार करेगी। उन्होंने कहा कि जमीन को लेकर किसानों की को आशंका है उसका भी समाधान किया जाएगा। कृषि मंत्री ने कहा कि 5 दिसंबर को फिर बैठक होगी। किसान संगठन पिछले 7 दिनों से राजधानी की सीमा पर जमे हैं और कृषि सुधार कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

08:44PM, 3rd Dec
आज़ाद किसान संघर्ष समिति के हरजिंदर सिंह टाडा ने बैठक के बाद कहा कि सरकार मानती है कि MSP (न्यूनतम समर्थन मूल्य) रहेगी। बात आगे बढ़ी है। हम लोगों ने कहा कि तीनों कानून वापस लो। उसके बाद MSP (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर गारंटी दी जाए।
 
भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने MSP पर संकेत दिए हैं। सरकार बिलों में संशोधन चाहती है। आज बात कुछ आगे बढ़ी है। आंदोलन जारी रहेगा। 5 दिसंबर को बैठक फिर से होगी। 
08:04PM, 3rd Dec
सूत्रों के अनुसार सरकार, किसानों के बीच चौथे दौर की वार्ता बेनतीजा रही। अगली बैठक शनिवार को प्रस्तावित। सरकार ने कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठनों के नेताओं के साथ बैठक में उनकी सभी आशंकाओं को दूर किया है।
07:13PM, 3rd Dec
किसानों ने बैठक में सरकार को सलाह दी है कि वह इन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए संसद का विशेष सत्र आहूत करें।
06:22PM, 3rd Dec
दिल्ली : राष्ट्रीय राजमार्ग-24 पर किसानों का आंदोलन जारी है, विरोध प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस ने एक तरफ से आवाजाही बंद कर दी है।
03:29PM, 3rd Dec
-केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ विज्ञान भवन में बैठक के लिए गए किसान ब्रेक के दौरान, सरकार द्वारा किए गए खाने के प्रबंध की जगह अपने लाए हुए खाने को बांटकर खाया।
-शिरोमणि अकाली दल (डेमोक्रेटिक) के प्रमुख और राज्यसभा सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा ने कृषि कानूनों के विरोध में पद्म भूषण लौटाने की घोषणा की।
-किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के महासचिव श्रवण सिंह पंढेर का बड़ा बयान, कृ​षि कानूनों में संशोधन से बात बनने वाली नहीं है, कृषि कानून रद्द करने के अलावा कोई और चारा नहीं है। 
02:39PM, 3rd Dec
-पंजाब सरकार ने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध के दौरान मारे गए दो किसानों के परिवारों को पांच-पांच लाख रुपए की वित्तीय सहायता मुहैया कराने की घोषणा की।
-वरिष्ठ कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सरकार से अपील की कि किसानों को ‘‘हैरान परेशान’’ करने की बजाय उनकी समस्याओं का जल्द से जल्द कोई समाधान निकालें।
-ऑल इंडिया पॉवर इंजीनियर्स फेडरेशन ने कृषि कानूनों और बिजली (संशोधन) विधेयक को वापस लेने की मांग कर रहे किसानों को अपना समर्थन देने का फैसला किया है।
02:18PM, 3rd Dec
-अकाली दल के वरिष्ठ नेता प्रकाश सिंह बादल ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जताते हुए ‘पद्म विभूषण’ पुरस्कार वापस किया।
-पूर्व अंतरराष्‍ट्रीय खिलाड़ी परगट सिंह भी पद्मश्री सम्मान वापस करेंगे।
02:08PM, 3rd Dec
-केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेलवे, वाणिज्य एवं खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और पंजाब से सांसद एवं वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने राष्ट्रीय राजधानी स्थित विज्ञान भवन में 35 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की।
-सरकार ने बताया कि वार्ता दोपहर को आरंभ हुई और सौहार्दपूर्ण माहौल में बातचीत जारी है।
-नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों की चिंताओं पर गौर करने के लिए एक समिति गठित करने के सरकार के प्रस्ताव को किसान प्रतिनिधियों ने ठुकरा दिया था। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच एक दिसंबर को हुई बातचीत बेनतीजा रही थी।
-सरकार ने कानून निरस्त करने की मांग अस्वीकार कर दी थी और किसान संगठनों से कहा था कि वे हाल में लागू कानूनों संबंधी विशिष्ट मुद्दों को चिह्नित करें और गुरुवार को चर्चा के लिए 2 दिसंबर तक उन्हें जमा करें।
12:53PM, 3rd Dec
पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा कि किसान आंदोलन जारी रहा तो यह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हो सकता है। उन्होंने कहा कि किसानों की समस्याओं का हल निकलना चाहिए। सीएम सिंह ने कहा- पंजाब की अर्थव्यवस्था पर भी आंदोलन का असर हो रहा है। 
12:02PM, 3rd Dec
-किसान आंदोलन को लेकर पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह के साथ बैठक कर रहे हैं गृहमंत्री अमित शाह।
-वार्ता में भाग लेने के लिए 40 किसान नेता विज्ञान भवन पहुंचे।
-किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान, हमें उम्मीद है कि वार्ता सकारात्मक रहेगी। उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगें नहीं मानी गई तो किसान दिल्ली में होने वाली रिपब्लिक डे परेड में भाग लेगी।

10:55AM, 3rd Dec
-किसानों के साथ बैठक के लिए कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर घर से निकले।
-कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी। 
-केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री सोमप्रकाश का बड़ा बयान, न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को लेकर सरकार बहुत स्पष्ट है, MSP था, है और रहेगा। इसमें किसी को कोई शंका नहीं होनी चाहिए। सरकार प्रतिबद्ध है, लिखकर देने के लिए तैयार।
09:58AM, 3rd Dec
-कुछ ही देर में अमित शाह और अ‍मरिंदर सिंह की मुलाकात, किसान नेता भी बैठक के लिए रवाना
-बैठक में शामिल होने सभी 35 नेता एक साथ बस में निकले। 
-गाजीपुर-गाजियाबाद बॉर्डर पर किसानों ने किया हवन।
 
 
 
09:11AM, 3rd Dec
-किसान नेताओं का बड़ा आरोप, सरकार किसानों को बांटने की साजिश रच रही है। वह किसानों से अलग-अलग बैठक कर उन्हें बांटना चाहती है। किसानों ने फैसला लिया कि सरकार से अब अलग-अलग नहीं, एक साथ मीटिंग करेंगे।
-किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी पंजाब के संयुक्त सचिव सु​खविंदर सिंह का बड़ा बयान, पूरे देश के 507 संगठन हैं, मोदी जी सबको क्यों नहीं बुलाते? केंद्र सरकार पूरे देश के संगठनों को बांट रही है उनमें फूट डालने की कोशिश कर रही है। ये लड़ाई पूरे देश के किसानों की है। हम बैठक में नहीं जाएंगे।
09:01AM, 3rd Dec
-32 किसान नेता सुबह 10 बजे बस में बैठकर विज्ञान भवन के लिए रवाना होंगे।
-सभी किसान संगठन 3 कृषि कानून को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। वहीं सरकार बीच का रास्त निकालने की कोशिश कर रही है।
07:54AM, 3rd Dec
-गृहमंत्री अमित शाह से आज मुलाकात करेंगे अमरिंदर सिंह, किसान आंदोलन पर होगी बात
-किसानों से बैठक से पहले होगी अमित शाह और अमरिंदर सिंह की मुलाकात।
-पंजाब के मुख्यमंत्री और उनकी कांग्रेस पार्टी किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है और पंजाब विधानसभा ने केंद्र के नए कृषि कानूनों को निष्प्रभावी बनाने के लिए विधेयक भी पारित किए हैं।
-प्रदर्शनकारी किसान राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं और सरकार से नए कृषि कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इनमें से ज्यादातर किसान पंजाब से हैं।
07:53AM, 3rd Dec
-दोपहर 12 बजे शुरू होगी किसान नेताओं की केंद्रीय मंत्रियों राजनाथ सिंह, पीयूष गोयल और नरेंद्र सिंह तोमर के साथ बैठक।
-इससे पहले मंगलवार को दोनों पक्षों के बीच वार्ता बेनतीजा रही थी।
07:53AM, 3rd Dec
-किसानों के आंदोलन को लेकर आज भी चिल्ला बॉर्डर बंद।
-टिकरी बॉर्डर, झरोडा बॉर्डर, झटिकरा बॉर्डर भी बंद रहेंगे। यहां से ट्रैफिक डायवर्जन किया गया है।
07:53AM, 3rd Dec
-क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि सरकार तीनों कानूनों को खत्म करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाए। अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं, तो 5 दिसंबर को मोदी सरकार और कॉरपोरेट घराने के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन किए जाएंगे।
-कृषि विशेषज्ञ-पत्रकार पी साईनाथ ने कहा कि यह समय है जब समाज के गैर कृषि वर्ग को तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ शामिल होना चाहिए।



और भी पढ़ें :