मध्यप्रदेश की वे 5 सीटें, जिन्होंने रोक दी थीं नेताओं की सांसें...

Last Updated: बुधवार, 12 दिसंबर 2018 (14:21 IST)
के परिणाम बुधवार सुबह तक आ गए। इन परिणामों में किसी को स्पष्ट बहुमत तो नहीं मिला, लेकिन कांग्रेस बड़ी पार्टी बनकर आई। कांग्रेस को 114 सीटें हासिल हुईं हैं, जबकि भाजपा को 109 सीटें मिलीं। बीएसपी को 2 सीटें मिली हैं, जबकि समाजवादी पार्टी को 1 सीट मिली।

4 सीटों पर निर्दलीयों की जीत हुई। मंगलवार को हुई मतगणना बुधवार सुबह तक चलती रही। मप्र में ऐसी 5 सीटें रहीं जिन पर बुधवार तक गिनती चलती रही है। इन सीटों ने नेताओं की सांसों को रोककर रखा। आइए बताते हैं वे सीटें कौन-सी हैं। कांग्रेस और भाजपा दोनों की नजरें इन सीटों पर रहीं।

मध्यप्रदेश की 5 सीटों- भिंड, अटेर, लहार, और नरेला पर पूरी रात मतगणना चलती रही। इस कारण से राज्‍य में अंतिम चुनावी नतीजे अभी तक सामने नहीं आ सके थे। कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियों की नजरें इन सीटों पर लगातार थीं। बुधवार सुबह 6 बजे के बाद से बसपा प्रत्‍याशी संजीव सिंह ने जीत दर्ज कर ली। उन्‍होंने भाजपा के राकेश सिंह चतुर्वेदी को हराया, वहीं नरेला सीट पर भाजपा के विश्‍वास सारंग ने कांग्रेस के को हराया। 5 में से 2 सीटों पर बसपा और भाजपा ने जीत दर्ज कर ली थी।
सीट पर भारतीय जनता पार्टी के अरविंद सिंह भदौरिया ने 58 हजार से अधिक वोट पाकर कांग्रेस के हेमंत सत्‍यदेव कटारे को हराया। सीट पर कांग्रेस के डॉ. गोविंद सिंह को 62 हजार से ज्‍यादा मत हासिल हुए और वे जीत गए। भाजपा के रसल सिंह दूसरे नंबर पर रहे।
सबसे अंत तक मामला महगांव सीट पर अटका रहा। हालांकि यहां कांग्रेस मजबूत स्थिति में रही। यहां कांग्रेस के ओपीएस भदौरिया 60 हजार वोट पाकर भाजपा के राकेश शुक्‍ला से आगे चल रहे थे। इस सीट पर भदौरिया ने जीत हासिल कर ली और यह सीट कांग्रेस के खाते में गई।



और भी पढ़ें :