शुक्रवार, 12 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. चुनाव 2024
  2. विधानसभा चुनाव 2024
  3. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2024
  4. Ajit Pawar, who was targeted by Shinde Sena got support of his uncles party
Last Modified: गुरुवार, 20 जून 2024 (17:12 IST)

शिंदे सेना के निशाने पर आए अजित पवार को मिला चाचा की पार्टी का साथ

शिंदे सेना के निशाने पर आए अजित पवार को मिला चाचा की पार्टी का साथ - Ajit Pawar, who was targeted by Shinde Sena got support of his uncles party
Maharashtra Assembly Elections 2024: शिवसेना नेता रामदास कदम की टिप्पणी के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) ने दावा किया कि उसके नेता अजित पवार (Ajit Pawar) के ‘समय पर’ महायुति में शामिल हो जाने से सत्तारूढ़ गठबंधन लोकसभा चुनाव में ‘बच गया’। इस बीच, अजित को चाचा शरद पवार (Sharad Pawar) की पार्टी का साथ मिल गया है।

शरद गुट से ताल्लुक रखने वाले अजित के भतीजे रोहित पवार ने कहा कि लोकसभा चुनाव परिणामों के लिए अजित पवार को बलि का बकरा बनाया जा रहा है। वहीं, शरद गुट के जितेन्द्र अव्हाड ने कहा कि एनडीए के खराब प्रदर्शन के लिए भाजपा ही जिम्मेदार है। ALSO READ: कौन है मिटकरी, क्या अजित दादा के ऑपरेटर हैं? क्यों भड़के पंकजा मुंडे को हराने वाले शरद पवार के सांसद सोनावणे
 
क्या कहा राकांपा ने : राकांपा प्रवक्ता अमोल मितकारी ने इस बात पर आश्चर्य जताया कि भाजपा और शिवसेना के नेता गठबंधन में ‘मतभेद’ पैदा करने की कोशिश क्यों कर रहे हैं। वह शिवसेना के नेता रामदास कदम के दावे की ओर इशारा कर रहे थे। दरअसल, महायुति को लोकसभा चुनाव में महाविकास अघाड़ी की तुलना में काफी कम सीटें मिली हैं।

विधानसभा चुनाव से पहले महायुति के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है। सत्तारूढ़ गठबंधन महायुति ने हाल के लोकसभा चुनाव में महाराष्ट्र की 48 में 17 सीट जीती हैं। भाजपा ने 9, शिवसेना ने 7 और राकांपा ने 1 सीट जीती है। ALSO READ: अजित पवार की NCP को बड़ा झटका, मोदी कैबिनेट में जगह नहीं
 
क्या कहा कदम ने : शिंदे की शिवसेना के नेता कदम ने एक कार्यक्रम में कहा था कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार पिछले दरवाजे से सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल हो गए थे। उन्होंने कहा- अच्छा होता कि वह कुछ दिनों तक नहीं आते। अजित पिछले साल जुलाई में कई अन्य विधायकों के साथ राज्य की शिवसेना-भाजपा गठबंधन सरकार में शामिल हो गए थे। फलस्वरूप शरद पवार द्वारा स्थापित पार्टी राकांपा विभाजित हो गई थी। ALSO READ: मराठा आरक्षण को लेकर शरद पवार का केंद्र सरकार से कदम उठाने का आग्रह

कांग्रेस, उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली शिवसेना (यूबीटी) और शरद पवार की राकांपा (एनसीपीएसपी) वाले विपक्षी गठबंधन महा विकास आघाडी ने 30 सीट जीती हैं।
Edited by: Vrijendra Singh Jhala
 
ये भी पढ़ें
एक हजार हाजियों की मौत, आखिर मक्का में क्यों होती है इतनी गर्मी?