MP में बारिश से हाहाकार, 4 जिलों में स्कूलों की छुट्टी, 32 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

Last Updated: सोमवार, 9 सितम्बर 2019 (11:46 IST)
भोपाल। में भारी से हाहाकार मचा हुआ है। ने अगले 24 घंटों में भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। भारी बारिश के कारण नदी-नाले भी उफान पर हैं। 11 जिलों में हालत काफी खराब है। भारी बारिश को देखते हुए सहित 4 जिलों में स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी गई है। भारी बारिश से आम जनजीवन प्रभावित हुआ है।
मौसम विभाग ने आज भी राजधानी भोपाल समेत 32 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है।
होशंगाबाद जिले में लगातार बारिश से भयावह स्थिति हो गई है। राज्य में बारिश को देखते हुए निचले इलाकों और नदी के किनारे के इलाकों को खाली करवा लिया है। प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान भोपाल सहित कई जिलों में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई है। भोपाल में एक दिन में सबसे अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई है।
ओंकारेश्वर में नर्मदा ऊफान पर : इंदिरासागर बांध में जलस्तर बढ़ जाने के कारण बांध के गेट खोले गए हैं तथा ओंकारेश्वर में भी नर्मदा ऊफान पर है। सुरक्षा के मद्देनजर घाट सहित निचले इलाकों को खाली करवाया गया है। इलाके की बिजली भी बंद कर दी गई है। रविवार शाम को इंदिरासागर बांध के गेट खोले गए। इसके सभी 8 टरबाइन चालू हैं व बांध से 14,840 क्यूमेक्स पानी लगातार छोड़ा जा रहा है। ओंकारेश्वर बांध से भी पानी छोड़ा गया है।
मोरटक्का पुल से 3 फुट नीचे पानी : ओंकारेश्वर में मोरटक्का पुल से सिर्फ 3 फुट नीचे ही पानी बह रहा है तथा प्रशासन ने सुरक्षा के मद्देनजर इंदौर-इच्‍छापुर हाईवे पर यातायात रोक दिया है। नर्मदा में जल की भयानक स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने श्रद्धालुओं के स्नान पर रोक लगा दी है।

होशंगाबाद में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। सेठानी घाट पर नर्मदा के जलस्तर में काफी बढ़ोतरी हो गई है। तवा डेम के सभी 13 गेट 12 फ़ीट तक खोले दिए गए हैं तथा 2 लाख 57 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। जबलपुर में नर्मदा नदी पर बने बरगी बांध के 21 गेट इस सीजन में पहली बार खोल दिए गए हैं।
भारी बारिश की चेतावनी : मौसम विभाग ने सोमवार को भी राजधानी भोपाल समेत 32 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। सीहोर में चारों तरफ पानी ही पानी है। मप्र में पिछले 24 घंटे में जिले में सबसे अधिक 118 मिलीमीटर (4.5 इंच) बारिश इछावर तहसील में दर्ज की गई। रात से रुक-रुककर हो रही बरसात के चलते आज जिलेभर के स्कूल-कॉलेजों में अवकाश रखा गया है।
राजघाट बांध के गेट खुले :
उत्तरप्रदेश की सीमा पर बने राजघाट बांध के गेट पिछले 3 दिन से खुले हुए हैं और अशोकनगर और आसपास के अन्य नजदीकी जिलों में अच्छी बारिश होने से बेतवा नदी में पानी का बहाव ज्यादा रहने के कारण बारिश के इस सीजन में राजघाट बांध के गेट 5वीं बार खोले गए हैं।

विदिशा में बाढ़ के हालात : विदिशा जिले में लगातार तेज बारिश के कारण बाढ़ के हालात बन गए हैं। इस बीच जिला प्रशासन ने ऐहतियातन आज कक्षा 1 से 12वीं तक के सभी स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया है।
हरदा जिले में शनिवार और रविवार को लगातार बारिश होने के कारण जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। टिमरनी तहसील में अधिकांश रिहायशी इलाकों में पानी भर जाने के कारण स्थानीय लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। रायसेन जिले के बारना बांध के सभी आठों गेट भारी बारिश के चलते कल खोल दिए गए जिसके चलते भोपाल का जबलपुर से सड़क संपर्क टूट गया है।

नरसिंहपुर जिले के गोटेगांव से शहपुरा होकर जबलपुर जाने वाले सड़क मार्ग पर नर्मदा नदी के झांसीघाट पर बने पुल तक कल देर रात पानी आ जाने के कारण ऐहतियातन पुल पर यातायात बंद कर दिया गया।

 

और भी पढ़ें :