शपथ ग्रहण समारोह के लिए पीएम मोदी ने पाकिस्तान को नहीं भेजा न्योता, शामिल होंगी ये हस्तियां

पुनः संशोधित सोमवार, 27 मई 2019 (21:25 IST)
नई दिल्ली/ चेन्नई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गुरुवार को होने वाले के लिए सभी बिम्सटेक देशों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है, लेकिन इस बार को शपथ में शामिल होने के लिए नहीं दिया गया है।
सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सरकार ने 'पड़ोस पहले’ की अपनी नीति को ध्यान में रखते हुए बिम्सटेक देशों के नेताओं को प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया है। इन देशों में भारत के अलावा बंगलादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका, म्यांमार और थाइलैंड शामिल हैं।

मोदी ने जब 2014 में प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो उनके शपथ ग्रहण समारोह में दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (दक्षेस) देशों के नेताओं को आमंत्रित किया गया था जिनमें पाकिस्तान भी शामिल था। इस बार बिम्सटेक के नेताओं को न्योता दिया गया है लेकिन इस संगठन के सदस्यों में पाकिस्तान शामिल नहीं है। अभी तक कोई ऐसी आधिकारिक जानकारी नहीं कि पाकिस्तान को भी आमंत्रित किया जाएगा या नहीं।
मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के वर्तमान अध्यक्ष एवं किर्गिस्तान के राष्ट्रपति तथा मॉरीशस के प्रधानमंत्री को भी शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रित किया गया है। मॉरीशस के प्रधानमंत्री इस वर्ष प्रवासी भारतीय दिवस पर मुख्य अतिथि थे।

उन्होंने बताया कि शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए सरकार ने बिम्सटेक समूह के नेताओं को आमंत्रित किया है। बिम्स्टेक समूह में बांग्लादेश, भूटान, भारत, म्यांमार, नेपाल, श्रीलंका, थाईलैंड शामिल हैं। की विज्ञप्ति के अनुसार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार, 30 मई को शाम 7 बजे राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री एवं मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे।
कमल हासन और रजनीकांत को भेजा बुलावा : नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण कार्यक्रम में तमिल सिनेमा के दिग्गज अभिनेताओं रजनीकांत और कमल हासन को आमंत्रित किया गया है। अभिनेताओं से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी।

हासन की मक्कल नीधि मय्यम पार्टी ने पहली बार लोकसभा चुनाव में हिस्सा लिया था और रजनीकांत ने दिसंबर 2017 में राजनीति में आने के बारे में की गई घोषणा को अभी तक औपचारिक रूप नहीं दिया है। दोनों ही अभिनेताओं से जुड़े करीबी सूत्रों ने गुरुवार को होने वाले मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रण मिलने की जानकारी दी
हासन ने भाजपा का विरोध करते हुए इस बात पर खुशी जताई थी कि भले ही भाजपा का प्रदर्शन देशभर में काफी बेहतरीन रहा हो लेकिन वह तमिलनाडु में एक भी सीट नहीं जीत पाई। उन्होंने कहा कि राज्य देशभर में चली लहर से प्रभावित नहीं हुआ।

वहीं रजनीकांत से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चेन्नई की अपनी यात्रा के दौरान अतीत में मुलाकात कर चुके हैं। रजनीकांत ने दिसंबर 2017 में राजनीति में आने की घोषणा की थी और कहा था कि वे अपनी पार्टी बनाएंगे और 2021 में होने वाले अगले विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी राज्य की सभी 234 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। मोदी 30 मई को दूसरे कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेंगे।
मोदी भाजपा के ऐसे पहले नेता हैं जिन्हें प्रधानमंत्री के रूप में 5 साल का अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद लगातार दूसरी बार इस शीर्ष पद के लिए चुना गया है। साथ ही जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद मोदी पूर्ण बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सत्ता में पहुंचने वाले तीसरे प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं।

2014 में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह में दक्षेस देशों के शासनाध्यक्षों को आमंत्रित किया गया था। इसमें तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर नवाज शरीफ शामिल हुए थे। (भाषा)

 

और भी पढ़ें :