हैडिंग्ले पर जीत की हैट्रिक पर नजर, 1967 से यहां टेस्ट नहीं हारा है भारत

Last Updated: बुधवार, 25 अगस्त 2021 (12:05 IST)
टेस्ट मैच सीरीज में कारवां अब लंदन के लॉर्ड्स से लेकर हेडिंग्ले के तक आ चुका है। भारत 1-0 की बढ़त इस सीरीज में ले चुका है और 2-0 की बढ़त इंग्लैंड में लेने का यह सुनहरा अवसर है। पिछले 20 सालों में भारत कभी भी इंग्लैंड में खेलते हुए 2-0 की बढ़त नही ले पाया है।

हेडिंग्ले पर ऐसा रहा है भारत का प्रदर्शन
भारत ने हेडिंग्ले में अब तक 6 मैच खेले हैं। इनमें से उसे 2 में जीत मिली है और 3 में हार का सामना करना पड़ा है। वहीं 1 टेस्ट मैच ड्रॉ हुआ है। पहले 1952, 1959 और 1967 में भारत को यहां हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद 1979 में हुए ड्रॉ मैच से हार का सिलसिला थम गया। इसके बाद भारत ने यहां 1986 में और साल 2002 में जीत दर्ज की थी। अगर विराट की कप्तानी में टीम इंडिया यहां पर जीत दर्ज कर लेती है तो यह जीत की हैट्रिक होगी।

साल 2002 का एतिहासिक टेस्ट मैच

साल 2002 के टेस्ट में भारत ने टॉस जीतकर बहुत ही बहादुरी दिखाते हुए पहले बल्लेबाजी का निर्णय लिया था। इससे पहले लॉर्ड्स टेस्ट भारत हार चुका था। लेकिन हरी पिच पर भारत को बल्लेबाजी करने से कोई गुरेज नहीं था।
ऐसा प्रतीत हो रहा था कि भारतीय बल्लेबाज किसी एशियाई पिच पर खेल रहे हैं। भारतीय बल्लेबाजी क्रम की त्रिमूर्ति सचिन तेंदुलकर (193) ,राहुल द्रविड़(148) और सौरव गांगुली (128) तीनों के ही शतक के बदौलत भारत ने 8 विकेट पर 628 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी।

इसके बाद इंग्लैंड की पहली पारी 273 रनों पर सिमट गई और कप्तान सौरव गांगुली ने इंग्लैंड को फॉलोऑन खिलाया। इसके बाद इंग्लैंड की दूसरी पारी भी 309 रनों पर सिमट गई। भारत यह मैच पारी और 46 रनों से जीतने में कामयाब हुआ था।

पूरी टीम इंडिया खेलेगी पहली बार

साल 2002 में आखिरी बार टीम इंडिया ने हेडिंग्ले में टेस्ट खेला था। उस टीम का कोई भी खिलाड़ी वर्तमान टीम में मौजूद नहीं है। कोहली सहित पूरी टीम इंडिया 25 अगस्‍त को हेडिंग्‍ले टेस्‍ट में डेब्‍यू करेगी। हर किसी के लिए ये मुकाबला काफी खास होगा।
इंग्लैंड करेगा 2 बदलाव, भारत नहीं करेगा अंतिम ग्यारह से छेड़छाड़
कप्तान विराट कोहली ने कल यह साफ कर दिया है कि लॉर्ड्स की टीम ही लीड्स पर खेलेगी। इसका मतलब यह है कि फिट होने के बाद भी शार्दुल ठाकुर टीम से बाहर ही रहेंगे। वहीं आर अश्विन की टीम में आने की संभावना तब है जब कोहली जड़ेजा को बाहर करें।

वहीं इंग्लैंड टीम में दो बदलाव निश्चित तौर से दिखेंगे। चोटिल गेंदबाज मार्क वुड की जगह पाकिस्तानी मूल के साकिब महमूद अपना टेस्ट पदार्पण करेंगे। टी-20 के नंबर 1 बल्लेबाज डेविड मलान को भी बल्लेाबाजी क्रम में शामिल किया जाएगा। वह टीम में किसकी जगह लेंगे यह देखने वाली बात होगी।

दोनों टीमें

भारत:
रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे (उप कप्तान), हनुमा विहारी, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, अक्षर पटेल, जसप्रीत बुमराह, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, मोहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर, उमेश यादव, केएल राहुल, रिधिमान साहा (विकेटकीपर) , अभिमन्यु ईश्वरन, सूर्यकुमार यादव और पृथ्वी शॉ।

इंग्लैंड:
जो रूट (कप्तान), रोरी बर्न्स, डेविड मलान, जोस बटलर, मार्क वुड, सैम कर्रन, जेम्स एंडरसन, जॉनी बेयरस्टो, डोमिनिक बेस, हसीब हमीद, डैन लॉरेंस, जैक लीच, ओली पोप, ओली रॉबिनसन, क्रेग ओवर्टन, साकिब महमूद और मोईन अली।(वेबदुनिया डेस्क)



और भी पढ़ें :