जानिए इंटरनेट से जुड़े ये रोचक तथ्य

internet
हाल ही में लंदन के एक अंग्रेजी अखबार डेली मेल समाचार प्रकाशित किया गया था कि आने वाले आठ वर्षों में का उपयोग इतना ज्यादा बढ़ जाएगा कि इसे चलाने वाली फाइबर केबल्स यह भार नहीं झेल पाएंगी और इंटरनेट धवस्त हो जाएगा, लेकिन इस तरह की आशंकाओं के बावजूद भी इंटरनेट का विकास तेजी से जारी है और वैज्ञानिक कोशिश कर रहे हैं कि ऐसी कोई स्थिति आने से पहले कोई विकल्प तलाश लिया जाए।
इसलिए स्वाभाविक है कि अगले दस वर्षों, 2025 तक हमें ऐसे कई बदलाव देखने को मिलेंगे जिनका सीधा असर न केवल हमारी जिंदगी पर वरन दुनिया भर के कारोबार, दूरसंचार, बाजारों और अन्य बहुत से क्षेत्रों पर पड़ेगा।
 
इंटरनेट से जुड़े कुछ तथ्‍यों को इस तरह समझा जा सकता है- 
*ऑप्टिकल फाइबर केबल की मदद से 255 टेराबाइट प्रति सेकेंड की गति हासिल की जा चुकी है और वैज्ञानिक इससे भी अधिक गति को पाने के लिए वैकल्पिक उपाय सोचने लगे हैं।
* दुनिया में मात्र 9.8 प्रतिशत लोगों के पास ही ब्रॉडबैंड कनेक्शन्स हैं।
* 25.3 एमबीपीएस दुनिया की सबसे अच्छी औसत स्पीड है जो साउथ कोरिया में उपलब्ध है।
* भारत में 500 किमी प्रति महीने इंटरनेट केबल बिछाई जा रही हैं जबकि जरूरत 30 हजार किमी प्रति महीने की है।
* 2.5 लाख गांवों को ब्रॉडबैंड सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए भारत सरकार 20 हजार करोड़ रुपए खर्च कर रही है।
* साल 2020 तक भारत में 50 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हो जाएंगे।
* भारत दुनिया के उन चंद देशों में शामिल है जहां इंटरनेट के बंद होने की सबसे ज्यादा संभावना है। हाल में आई एक रिपोर्ट ने एक बार फिर भविष्य में हमारे यहां इंटरनेट बंद हो जाने की बात को पुख्ता किया है। इसकी मुख्य वजह भारत में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (ग्लोबल आईएसपी) की घटती हुई संख्या है।
* भारत मे इंटरनेट यूजर्स की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। यहां 12 करोड़ 10 लाख लोगों की इंटरनेट की पहुंच हो चुकी है, जो कि कुल जनसंख्या का करीब 10 फीसदी है। 
* दुनिया के सभी इंटरनेट यूजर्स देश में भारत कर हिस्सा 3 प्रतिशत है। यूज के मामले में भारत में इंटरनेट का यूज सबसे ज्यादा पोर्न फिल्में देखने के लिए किया जाता है।
* इंटरनेट का प्रयोग व्यक्तिगत जरूरतों जैसे बैंकिंग, ट्रेन इंफॉर्मेशन-रिजर्वेशन और अन्य सेवाओं के लिए भी होता है।
अगले पन्ने पर, भविष्य में ये होंगे बदलाव...
 
 



और भी पढ़ें :