क्या वाकई सच बोलता है चेहरा..?

Last Updated: शुक्रवार, 31 अक्टूबर 2014 (16:01 IST)
अगर लम्बे चेहरे के साथ छोटी-छोटी आंखें हों और यह दुखी दिखाई देता है तो हम इस चेहरे को अंतर्मुखी समझते हैं लेकिन अगर चेहरा गोल हो, चेहरा मित्रवत हो और गालों की हड्‍डियां उभरी हों तो यह बहर्मुखी चेहरा बन जाता है। जिन लोगों की गालों की हड्‍डियां धंसी हुई हों, आंखें मिली हुईं जान पड़ती हों और माथे पर शिकन स्पष्ट दिखती हों तो ऐसे चेहरे वालों को अविश्वसनीय और बेइमान समझते हैं। पर अगर चेहरा मुस्कराता हुआ हो, भौंहें ऊंची हों और गालों की हड्डियां उभरी हुई हों तो ऐसे लोगों को हम भरोसेमंद या इमानदार मानते हैं।











शोधकर्ताओं का कहना है कि बराक ओबामा का चेहरा सक्षम दिखाई देता है और ऐसे लोग चुनाव जीत जाते हैं,
लेकिन सारा पॉलिन जैसे चेहरे कम सक्षम‍ दिखाई देते हैं। जो लोग सक्षम दिखाई देते हैं उन्हें कंपनियों में बड़ी और सफल कंपनियों में आसानी से काम मिलता है। इसी तरह से, एक प्रभावी और मर्दाना चेहरा सेना में ऊंचा रैंक पाने वाले अफसरों की निशानी मानी जाती है।




और भी पढ़ें :