गुरुवार, 25 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. होली
  4. Holashtak me kya karna chahiye
Written By

होलाष्टक के दिन करना चाहिए ये 15 कार्य, सबकुछ मिलेगा

होलाष्टक के दिन करना चाहिए ये 15 कार्य, सबकुछ मिलेगा - Holashtak me kya karna chahiye
27 फरवरी से होलाष्टक प्रारंभ हो रहा है, जो 7 मार्च के दिन समाप्त होगा। इसका मतलब है कि होलाष्टक इस बार 8 की जगह 9 दिनों तक रहेगा। इसका कारण है बीच में दो दिन की एकादशी रहेगी। होलाष्टक के इन दिनों में सभी तरह के मांगलिक कार्य बंद रहते हैं, क्योंकि ये दिन अशुभ माने गए हैं। आओ जानते हैं कि तब फिर इन दिनों में कौनसे 15 कार्य करना चाहिए।
 
होलाष्टक के दिन क्या करना चाहिए- Holashtak me kya karna chahiye :
 
1. होलाष्टक में पूजा-पाठ करने और भगवान का स्मरण भजन करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। 
 
2. मान्यता है कि होलाष्टक में कुछ विशेष उपाय करने से कई प्रकार के लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। 
 
3. होलाष्टक के दौरान श्रीसूक्त व मंगल ऋण मोचन स्त्रोत का पाठ करना चाहिए जिससे आर्थिक संकट समाप्त होकर कर्ज मुक्ति मिलती है। 
 
4. होलाष्टक के दौरान भगवान नृसिंह और हनुमानजी की पूजा करना चाहिए।
 
5. होलाष्टक के दौरान श्रीकृष्‍ण की की पूजा के साथ ही इस दौरान लड्डू गोपाल का पूजन कर संतान गोपाल मंत्र का जाप या गोपाल सहस्त्र नाम पाठ करवा कर अंत में शुद्ध घी व मिश्री से हवन करेंगे तो शीघ्र संतान प्राप्ति होती है।
 
6. होलाष्टक के दौरान किए गए व्रत और दिए गए दान से जीवन के कष्टों से मुक्ति मिलती है।
 
7. रोग से बचने के लिए शिव पूवा और महामृत्युंजय मंत्र का अनुष्ठान प्रारम्भ करवाएं, बाद में हवन करें।
 
8. विजय प्राप्ति हेतु आदित्यहृदय स्त्रोत, सुंदरकांड का पाठ या बगलामुखी मंत्र का जाप करें।
 
9. परिवार की समृद्धि, सुख शांति हेतु रामरक्षास्तोत्र, हनुमान चालीसा व विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें।
 
10. अपार धन-संपदा के लिए गुड़, कनेर के पुष्प, हल्दी की गांठ व पीली सरसों से हवन करें।
 
11. करियर में चमकदार सफलता के लिए जौ, तिल व शकर से हवन करें।
 
12. कन्या के विवाह हेतु-कात्यायनी मंत्रों का इन दिनों जाप करें। 
 
13. सौभाग्य की प्राप्ति के लिए चावल, घी, केसर से हवन करें।
 
14. बच्चों का पढाई में मन नहीं लग रहा है तो गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ करें। फिर मोदक व दूर्वा से हवन करें।
 
15. नवग्रह की कृपा प्राप्ति हेतु भगवान शिव का पंचामृत अभिषेक करें।
ये भी पढ़ें
साप्ताहिक पंचांग 2023 : नए सप्ताह के सर्वश्रेष्ठ शुभ मुहूर्त, यहां पढ़ें (27 फरवरी से 5 मार्च तक)