गुरुवार, 18 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. धर्म-दर्शन
  3. हिन्दू धर्म
  4. Dhumavati Jayanti Ke Upay
Written By WD Feature Desk
Last Updated : शुक्रवार, 7 जून 2024 (16:42 IST)

धूमावती जयंती कब है, कर लें ये 4 उपाय तो होगा बहुत ही शुभ

Dhumavati Jayanti 2024 : धूमावती जयंती कब है, कर लें ये 4 उपाय तो होगा बहुत ही शुभ - Dhumavati Jayanti Ke Upay
Dhumavati Jayanti 2024
 

Highlights : 
 
देवी धूमावती की पूजा से दरिद्रता दूर होती हैं।
देवी की आराधना से समस्त रोगों से मुक्ति मिलती है।
देवी धूमावती की पूजा कब होती है।
 
Dhumavati Jayanti : हर साल ज्येष्ठ महीने में शुक्ल पक्ष के आठवें दिन धूमावती जयंती मनाई जाती हैं। धार्मिक मान्यतानुसार इस दिन देवी धूमावती पृथ्वी पर अवतरित हुई थीं। वर्ष 2024 में यह दिन 14 जून, शुक्रवार को मनाया जा रहा है।
 
यह दिन हिन्दू और सनातन धर्म के लिए बहुत महत्व रखता हैं क्योंकि देवी धूमावती की प्रार्थना करने से जीवन की सभी समस्याओं का अंत होता है। मान्यतानुसार माता धूमावती 10 महाविद्याओं में से एक 7वीं  महाशक्ति हैं। यह स्वभाव से उग्र और विधवा माता मानी गई है। 
 
इस दिन कुछ खास उपाय करने से देवी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। आइए यहां जानते हैं... 
 
धूमावती जयंती के उपाय : mata dhumavati ke upay 
 
1. धूमावती जयंती के दिन राई में सेंधा नमक मिला कर होम करने से शत्रूओं का समूल नाश हो जाता है।
 
2. इस दिन नीम की पत्तियों का घी में मिलकर हवन करने से पुराने से पुराना कर्ज शीघ्र नष्ट होता है। 
 
3. इस दिन पर रक्तचंदन घिस कर शहद में मिलाकर, जौ से मिश्रित कर होम करने तो दुर्भाग्यशाली व्यक्ति का भाग्य भी चमक उठता है।
 
4. धूमावती जयंती के दिन मीठी रोटी व शुद्ध घी से होम करने पर जीवन का बड़े से बड़ा संकट अतिशीघ्र नष्ट होता है। तथा रोगी व्यक्ति निरोग हो जाता हैं।  

अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष, इतिहास, पुराण आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं, जो विभिन्न सोर्स से लिए जाते हैं। इनसे संबंधित सत्यता की पुष्टि वेबदुनिया नहीं करता है। सेहत या ज्योतिष संबंधी किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। इस कंटेंट को जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है जिसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।
ये भी पढ़ें
गुरु अतिचारी, शनि का मीन राशि में प्रवेश और राहु की उल्टी चाल, क्या बिगाड़ देगी देश-दुनिया का हाल