होली की हंसी ठिठोली : रंगीन बातों से ही होली मनाएंगे

Holi ki thitholi
Holi ki thitholi

- एमके सांघी

देश के प्रमुख त्योहारों में होली बहुत ही विशेष है। चूंकि इसे मनाने में गांठ में पैसे होना जरूरी नहीं है अत: इसे देश का गरीब से गरीब आदमी भी मना सकता है। यदि यह भी कहा जाए कि 'ऊंचे लोग, ऊंची पसंद, भूलते जा रहे, होली के रंग' तो अतिशयोक्ति नहीं होगी।
होली और हास्य-मस्ती का चोली-दामन का साथ है। आइए आपको हंसाने के लिए चंद क्षणिकाओं से रूबरू करवाता हूं।

आपको रंगों से एलर्जी है
चलिए आपको रंग नहीं लगाएंगे
मगर साथ तो बैठिएगा
रंगीन बातों से ही होली मनाएंगे।
मोहब्बत के रंग

होली के रंग आज लगेंगे
कल उतर जाएंगे
मेरी मोहब्बत के रंग मगर
जिन्दगी भर साथ निभाएंगे।
ध्वजों ने खेली होली
अलग-अलग धर्मों के फ्लेग्स ने होली मनाई,
एक-दूसरे को खूब रंगा
बाद में सबने देखा तो पता चला
उनमें से हर एक बन चुका था तिरंगा।

होली की गेर

होली के गेर में
सब हैं एक रंग
क्या अमीर क्या गरीब
सब हैं संग संग।
होली और महंगाई

अच्छा हुआ दोस्त जो तूने
होली पर रंग लगा कर हंसा दिया
वरना अपने चेहरे का रंग तो
महंगाई ने कब का उड़ा दिया।
दुश्मनी भुलाना
कितना आसान है
दुश्मनी को भुलाना
बस दुश्मन को घेरना
और उसे रंग है लगाना।
मुफ्त पिचकारी

मुफ्त पिचकारी का आफर पाकर
बच्चे और मां-बाप दौड़े चले आए।
विक्रेता ने दी मुफ्त पिचकारी और कहा
कृपया इसमें भरे पानी की कीमत चुकाएं।

****
मोबाइल

दूर से हमने समझा कि
उनके हाथ में है मोबाइल
रंगे जाने के बाद पता चला
पिचकारी की थी वह नई स्टाइल।

****
होली के लिए
मंडप में खुद आओगी

लिखा है खत में तुमने कि
होली पर नहीं मिलोगी
घर पर ही रहकर
मेरे फोटो को रंगों से रंगोगी।
मुझे गिला नहीं यदि तुम
होली इस तरह मनाओगी
मगर वादा करो शादी के लिए
खुद मंडप में आओगी।

****
जिस तरह वैलेंटाइन डे जैसे प्यार के दिन को हम भारतवासियों ने अपनाया है उसी तरह होली जैसे त्योहार का भरपूर प्रचार विदेश में रह रहे भारत के नागरिकों को करना चाहिए। इन पंक्तियों के माध्यम से मैं अपनी बात रखना चाहूंगा कि
होली के रंग
रक्षाबंधन के धागे
संक्रांति की पतंग
दिवाली के पटाखे
साथियों खूब खुलकर
वेलेंटाइन डे मना‍ओ
मगर भारतीय त्योहारों को भी तो
जरा विदेशों में पहुंचाओ।

****
आजकल लड़कियों को बड़ा डर रहता है कि रंग उनकी कोमल त्वचा और बालों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

देखिए इस बारे में एक प्रेमी अपनी प्रेमिका से क्या कहता है-
खराब न हो जाए
तुम्हारे गेसू
रंगों के लिए इसलिए मैं
जंगल से लाया टेसू

****
हमारी आधुनिक जनरेशन को टेसू के बारे में बता दें कि यह जंगल में उगने वाला एक फूल है जिसे गर्म पानी में बॉइल करके नेचुरल कलर बनाया जाता है जो स्किन फ्रेंडली होता है।

तो फिर देर किस बात की। तुरंत अपने प्रियतम या अपनी प्रेयसी को चेतावनी भरे ये whatsapp कर दें -
प्रेयसी को
मेरे रंग तुम्हारा चेहरा
होली के दिन बिठाना पहरा।
दिल तुम्हारा पास है मेरे
अब बचाना अपना चेहरा।

प्रियतम को,
अपने आप को मेरे रंग में
चाहते थे तुम रंगना
यह Whatsapp नहीं चेतावनी है
होली के दिन मुझसे बचकर रहना।

अंत में
रंग YES
भंग YES
रंग में भंग
बस-बस।


और भी पढ़ें :