गुड़ी पड़वा पर भूलकर भी न करें ये 10 गलतियां

gudi padwa
पुनः संशोधित बुधवार, 30 मार्च 2022 (12:58 IST)
हमें फॉलो करें
Gudi Padwa 2022- hindu nav varsh 2079 : अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार नवसंवत्सर यानी 2 अप्रैल 2022 शनिवार से प्रारंभ हो रहा है। इस दिन चैत्र शुक्ल प्रतिपदा रहेगी। इस दिन को मराठी समाज को लोग इसे गुड़ी पड़वा कहते हैं। हर राज्य में इसे अलग अलग नाम से जाना जाता है। इसी दिन से चैत्र नवरात्रि के व्रत भी प्रारंभ होते हैं। आओ जानते हैं कि इस दिन कौनसी 10 गलतियां नहीं करना चाहिए।


1. यह सबसे पवित्र दिन होता है। इस दिन भूलकर भी किसी भी प्रकार का व्यसन न करें।

2. खाने में प्याज, लहसुन और नॉन वेज न खाएं, क्योंकि इस दिन मीठा और मधुर भोजन करते हैं। नमक, मिर्च और तेल का प्रयोग कम ही करते हैं।

3. इस दिन नाखून नहीं काटने चाहिए और न ही दाढ़ी-मूंछ और बाल नहीं कटवाने चाहिए।
4. इस दिन घर को गंदा नहीं रखते हैं और गंदे और बिना धुले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

5. इस दिन भूलकर भी शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए।

6. यह नवर्ष का प्रथम दिन होता है इसलिए इस दिन अपशब्द का प्रयोग नहीं करें। अर्थात किसी को गाली देना, किसी का अपमान करना, कटू वचन कहना आदि कार्य नहीं करें।

7. पूजा-पाठ में गलतियां नहीं करें। पूजा के अंत में भूलचूक के लिए क्षमा मांगे।

8. दिन में शयन नहीं करें।

9. जरूरी न हो तो यात्रा का त्याग करें।

10. गुड़ी पड़वा दो शब्दों से मिलकर बना हैं। जिसमें गुड़ी का अर्थ होता हैं विजय पताका और पड़वा का मतलब होता है प्रतिपदा। महाराठी परिवार घर के दरवाजे के बहारा गुड़ी लगाते हैं जबकि अन्य लोग ध्वज फहराते हैं। इस कार्य को विधि पूर्वक किया जाता है जिसमें किसी भी प्रकार की गलली नहीं करना चाहिए।



और भी पढ़ें :