उत्तराखंड राज्‍य के 21वें स्‍थापना दिवस पर पढ़ें 10 रोचक तथ्‍य

Last Updated: सोमवार, 8 नवंबर 2021 (13:39 IST)
उत्तराखंड स्‍थापना दिवस - उत्तराखंड देश के सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है। जिसे पहले उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था। उत्‍तराखंड को देवताओं की भूमि भी कहा जाता है। यहां हिंदुओं के कई प्रमुख स्‍थान है। यह पहला ऐसा राज्‍य है जहां पर हिंदी के बाद संस्‍कृत शब्‍द को आधिकारिक भाषा का दर्जा प्राप्‍त है। उत्तराखंड वादियों और नदियों से बसा हुआ
है। उत्तराखंड जाने वालों में पिछले कुछ सालों में पर्यटकों की संख्या तेजी से बढ़ी है। इतना ही नहीं कई लोग वहां पर जाकर बसने भी लगे हैं। उत्तराखंड को अलग राज्‍य बनाने की
मांग को लेकर सालों से आंदोलन जारी था। 9 नवंबर 2000 को उत्तराखंड अस्तित्व में आया था। इसके बाद यह देश का 27वां राज्‍य बना।

उत्तराखंड राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगा हुआ है। उत्तराखंड की सीमाएं उत्तर में तिब्बत और पूर्व में नेपाल की सीमा लगी है। वहीं पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में उत्तर प्रदेश सीमा से लगा है उत्‍तराखंड। इसे देवताओं की भूमि कहना अनुचित नहीं है। यह भगवान और प्रकृति दोनों के करीब है। देश की सबसे बड़ी नदी गंगा और यमुना का जन्‍म स्‍थान
है उत्‍तराखंड। उत्तराखंड दिवस के 21 वें स्‍थापना दिवस पर जानते हैं उत्तराखंड से जुड़े 10 रोचक तथ्‍य।


1. उत्तराखंड के प्रमुख धार्मिक स्थल केदारनाथ, ऋषिकेश, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, उत्तरकाशी, देवप्रयाग, पंच प्रयाग आदि प्रमुख है। केदारनाथ चार धाम की यात्रा का महत्वपूर्ण हिस्‍सा है। अप्रैल से नवंबर महीने के बीच ही यहां के कपाट खुलते हैं। पिछले कुछ सालों में युवाओं में केदरनाथ जाने का क्रेज बहुत अधिक बढ़ गया है।

2. हर की पौड़ी हरिद्वार में गंगा घाट पर हर दिन सूर्यास्त के बाद गंगा आरती होती है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु घाट पर इकट्ठा होते हैं।

3.सफेद कमल - उत्तराखंड के राज्य का फूल है ब्रह्म कमल। यहीं सुंदर कमल फूल है जो ब्रह्मा जी के हाथों में है। साथ बता दें कि ब्रह्मा कमल का इस्तेमाल आईटीलएस मेडिकल
प्रोजेक्‍ट्स के लिए भी प्रमुख है।

4. नैनीताल में मौजूद जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है। यह 1000 साल पुराना है।



5. 1970 में हुए चिपको आंदोलन सबसे अधिक चर्चा में रहा। एक विशेष समूह ने खासकर महिलाएं पेड़ों की रक्षा के लिए पेड़ों के गले लग गई थीं।

6. गंगा नदी उत्तराखंड का प्रतीक मानी जाती है। वहीं राज्य पशु हिमालयन कस्तूरी प्रिय है, हिमालयन मोनाल है, राज्‍य पेड़ बुरश है और राज्य फूल ब्रह्म कमल है।

7. दक्षिण-पूर्व में बसा ऋषिकेश धार्मिक स्थानों में से प्रमुख है। गंगा मैया के किनारे बस यह तट पवित्र स्थानों में से एक है। यह स्‍थान एडवेंचर गतिविधियों के साथ ही अध्यात्म की दृष्टि से बहुत सुखदाई स्‍थान है। ऋषिकेश को योग की राजधानी भी कहा जाता है। कहते हैं यहां पर ध्यान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

8. हालांकि हरियाणा अलग राज्य है लेकिन हरियाणा की तरह ही उत्‍तराखंड को कई लोगों ने अलग पहचान दी है। बछेंद्री पाल उत्‍तरकाशी जिले की हैं। माउंट एवरेस्ट पर फतेह लहराने

वाली पहली भारतीय महिला हैं। गोविंद वल्‍लभ पंत प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी थे। सुमित्रा नंदन पंत प्रसिद्ध लेखिका थीं। तो अभिनव बिंद्रा ओलंपिक में निशानेबाजी में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय थे।

9. टिहरी बांध भागीरथी नदी पर बना हुआ है। जो भारत का सबसे ऊंचा बांध है। यहां से पैदा की जाने वाली बिजली पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, दिल्ली तक वितरित की जाती है।

10.उत्तराखंड राज्य का सबसे प्रमुख त्‍योहार कुंभ मेला है। साथ ही चमोली का गौचर मेला, बागेश्वर का उत्तरायणी, पूर्णगिरी मेला, नंदा देवी राज जाट यात्रा प्रमुख है।

9 नवंबर 2021 को उत्तराखंड को 21 साल पूर्ण हो जाएंगे। इस अवसर पर उत्तराखंड सरकार गौरव महोत्सव बनाएंगी। इस दौरान के कई क्षेत्र में प्रतिष्ठित लोगों को उत्तराखंड गौरव पुरस्‍कार से सम्‍मानित करेंगी।




और भी पढ़ें :