श्री गणेशजी का रहस्य जानिए...

गणेश पुराण के अनुसार प्रत्येक युग में गणेशजी का वाहन अलग रहा है।
सतयुग : भगवान गणेशजी का सतयुग में वाहन सिंह है और उनकी भुजाएं 10 हैं तथा नाम विनायक।

त्रेतायुग : श्री गणेशजी का त्रेतायुग में वाहन मयूर है इसीलिए उनको मयूरेश्वर कहा गया है। उनकी भुजाएं 6 हैं और रंग श्वेत।

द्वापरयुग : द्वापरयुग में उनका वाहन मूषक है और उनकी भुजाएं 4 हैं। इस युग में वे गजानन नाम से प्रसिद्ध हैं और उनका वर्ण लाल है।
कलियुग : कलियुग में उनका वाहन घोड़ा है और वर्ण धूम्रवर्ण है। इनकी 2 भुजाएं हैं और इस युग में उनका नाम धूम्रकेतु है।

अगले पन्ने पर गणेशजी की जन्म कथा...




और भी पढ़ें :