गुरुवार, 18 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. एकादशी
  4. Kamada ekadashi day what to do n what not to do
Written By

कामदा एकादशी के दिन ये 10 गलतियां हरगिज न करें, 5 शुभ काम जरूर करें

कामदा एकादशी के दिन ये 10 गलतियां हरगिज न करें, 5 शुभ काम जरूर करें - Kamada ekadashi day what to do n what not to do
वर्ष 2023 में 1 अप्रैल को कामदा एकादशी व्रत (Kamada ekadashi 2023) किया जा रहा है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार इस दिन कई कार्य करने की मनाही बताई गई है।

आइए यहां जानते हैं कि एकादशी के दिन कौन-कौन से कार्य नहीं करना चाहिए तथा कौन-से कार्य किए जा सकते हैं...
 
1. इस दिन लहसुन, प्याज की तरह ही मसूर की दाल, गाजर, शलजम, गोभी, पालक आदि चीजों के सेवन से परहेज करें। 
 
2. मान्यतानुसार एकादशी तथा द्वादशी त‌िथ‌ि के द‌िन बैंगन खाना अशुभ फलदायी माना जाता है, अत: इस दिन बैंगन का सेवन भूलकर भी नहीं करना चाहिए। 
 
3. इस दिन जौ का सेवन नहीं करें, मान्यतानुसार 'जौ' को महर्ष‌ि मेधा के शरीर से उत्पन्न होना माना जाता है। अत: एकादशी पर जौ का सेवन वर्जित है।
 
4. एकादशी के दिन गंध युक्त चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए, क्योंकि यह काम भाव बढ़ाने तथा शरीर और मन की अशुद्धता को बढ़ाता है। अत: इस दिन लहसुन तथा प्याज का सेवन कभी भी नहीं करना चाहिए। 
 
5. एकादशी के दिन चावल नहीं खाना चाहिए, क्योंकि चावल का संबंध जल से तथा जल का संबंध चंद्रमा से माना जाता है। चंद्रमा ही मनुष्य मन का तथा सफेद रंग के स्वामी माने जाते हैं, अत: जलतत्व राशि के कारण अक्सर धोखा खाना पड़ता है। 
 
6. एकादशी के दिन वृक्ष से पत्ता नहीं तोड़ना चाहिए, अत: स्वयं गिरा हुआ पत्ता ही उपयोग में लाना चाहिएस 
 
7. शास्त्रों के अनुसार एकादशी के द‌िन मांस-मद‌‌िरा का सेवन करने से नरक जाना पडता है। अत: इस चीजों दूर रहना चाहिए।
 
8. इसी तरह एकादशी के दिन सेम का सेवन नहीं करना चाहिए, यह संतान के लिए हानिकारक माना गया है।
 
9. इस दिन बाल और नाखून नहीं काटें। 
 
10. एकादशी के दिन प्रात: दातुन न करें, नीबू, जामुन या आम के पत्ते चबा कर अंगुली से कंठ साफ करने की मान्यता है, यदि यह संभव न हो तो पानी से बारह बार कुल्ले करना चाहिए। 
 
कामदा एकादशी के दिन करें ये 5 कार्य : 
 
1. इस दिन पापों के क्षय की कामना से व्रत रखें तथा किसी का बुरा ना करें और ना ही बुरे विचार मन में लाएं। 
 
2. इस दिन कम से कम बोलने का प्रयास करें, अधिक न बोलें, ताकि इस दिन अपशब्दों के प्रयोग से बचा जा सकें।
 
3. एकादशी के दिन क्रोध का त्याग करें तथा मधुर वचन बोलें। 
 
4. एकादशी तिथि पर पीपल में मीठा जल चढ़ाने तथा शाम के समय पीपल की जड़ में घी का दीया लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है।
 
5. एकादशी के दिन उपवास के पश्चात द्वादशी तिथि पर पारण से पूर्व ब्राह्मणों को मिठाई, दक्षिणा तथा गरीबों को खाद्य सामग्री देने के पश्चात ही खुद पारणा करें। सामर्थ्यनुसार वस्त्र और रुपया-पैसे का दान अवश्य करना चाहिए।