RBI ने कहा- नोटों से Coronavirus फैलने की पूरी आशंका, बचने के लिए अपनाएं ये तरीके

पुनः संशोधित रविवार, 4 अक्टूबर 2020 (20:17 IST)
अगर आप यह सोचते हैं कि करेंसी नोटों से नहीं फैल सकता है तो आप गलतफहमी में हैं। करेंसी नोट के माध्यम से किसी भी तरह का बैक्टीरिया या वायरस फैल सकता है। (CAIT) द्वारा भेजे गए एक सवाल के जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) एक मेल में अप्रत्यक्ष रूप से यह बात कही है।
ALSO READ:
Covid 19 Vaccine in India News : जुलाई 2021 तक 20-25 करोड़ लोगों को कोविड-19 के टीके की खुराक देने की योजना
नोटों का लेन-देन करने पर कोरोनावायरस (Corona Virus) आपके शरीर के अन्दर पहुंच सकता है। अगर किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने नोट छुए हैं और फिर कोई और छूता है तो कोरोनावायरस चपेट में ले सकता है। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने पुष्टि की है कि करेंसी कोरोना के संभावित वाहक हो सकते हैं।

संस्था ने डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए सरकारी प्रोत्साहन दिए जाने की मांग की है। इससे पहले 9 मार्च को सीएआईटी ने केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखकर पूछा था कि क्या करंसी नोट बैक्टीरिया और वायरस के वाहक हैं या नहीं। इसलिए नोटों का लेन-देन करते समय सावधानी बरतें।

कन्फेडरेशन ने एक बयान में कहा है कि मंत्रालय से यह पत्र को भेज दिया गया था। उसने सीएआईटी को संकेत देते हुए जवाब दिया था कि नोट बैक्टीरिया और वायरस के वाहक हो सकते हैं, जिसमें कोरोनावायरस भी शामिल है। इससे बचने के लिए डिजिटल भुगतान का अधिक से अधिक उपयोग किया जाना चाहिए।
इंटेंसिव योजना हो शुरू : सीएआईटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल के अनुसार, आरबीआई का जवाब बताता है कि डिजिटल भुगतान का उपयोग ज्यादा से ज्यादा होना चाहिए। सीएआईटी ने वित्तमंत्री से लोगों में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए ‘इंटेंसिव’ देने की योजना शुरू करने का आग्रह किया है। बयान में कहा गया है कि डिजिटल लेन-देन के लिए लगाए गए बैंक शुल्क को माफ किया जाना चाहिए और सरकार को बैंक शुल्क के बदले बैंकों को सीधे सब्सिडी देनी चाहिए। यह सब्सिडी सरकार पर वित्तीय बोझ नहीं डालेगी बल्कि यह नोटों की छपाई पर होने वाले खर्च को कम कर देगी।
बचने के लिए अपनाएं ये तरीके : आरबीआई ने आगे कहा कि कोरोनावायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए जनता विभिन्न ऑनलाइन डिजिटल चैनलों जैसे मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग, क्रेडिट और डेबिट कार्ड आदि के माध्यम से घर बैठे भुगतान कर सकती है। इससे वह नकदी का उपयोग करने और निकालने से बचेगी। आप किसी से नोट लेते हैं तो साधवानी बरतते हुए नोटों को हाथ लगाने के बाद हाथ धोएं। सेनिटाइज भी कर सकते हैं। इसके साथ ही नोटों पर भी सेनिटाइजार स्प्रे कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :