बॉलीवुड 2010 : अभिनेत्रियों का स्कोरकार्ड

समय ताम्रकर|
(राजनीति, तीस मार खाँ)
कैटरीना की लोकप्रियता का ग्राफ लगातार ऊँचाइयों की ओर जा रहा है। ‘राजनीति’ में उन्होंने दिखा दिया कि वे ग्लैमर डॉल ही नहीं हैं, अभिनय भी कर सकती हैं। चैलेंजिंग रोल के लिए तैयार हैं। दूसरी ओर ‘शीला की जवानी’ के जरिये वे दर्शकों पर बिजली गिरा रही हैं। बॉलीवुड के सारे हीरो कैटरीना के साथ ज्यादा से ज्यादा फिल्म करने के लिए मरे जा रहे हैं।

प्रियंका चोपड़ा
(प्यार इम्पॉसिबल, अंजाना अंजानी)
प्रियंका चोपड़ा के खाते में इस वर्ष असफलता ही आई। माल कमाने के चक्कर में उदय चोपड़ा की हीरोइन बन गईं और उदय की फिल्म की सफलता बॉक्स ऑफिस पर इम्पॉसिबल है। ‘अंजाना-अंजानी’ के पिटने का सदमा प्रियंका को जरूर लगा होगा। रणबीर भी फिल्म को बचा नहीं पाए। शाहिद कपूर से लुकाछिपी का खेल जारी रहा और प्रियंका को चर्चा मिलती रही।

(मिलेंगे मिलेंगे, वी आर फैमिली, गोलमाल 3)
2010 ने जाते-जाते बेबो के खाते में ‘गोलमाल 3’ जैसी सुपरहिट फिल्म डाल दी। इसमें वे एकमात्र हीरोइन हैं और उनका रोल किसी हीरो से कम नहीं है। ‘वी आर फैमिली’ में काजोल से उन्होंने टक्कर लेकर साबित किया कि वे किसी से नहीं डरती। ‘मिलेंगे मिलेंगे’ के जरिये बेबो के सामने शाहिद कपूर फिर आ खड़े हुए, लेकिन न करीना ने उनसे मिलना मंजूर किया और न ही दर्शकों ने।
बिपाशा बसु
(पंख, लम्हा, आक्रोश)
ग्लैमरस रोल ठुकराकर दमदार रोल करने के चक्कर में बिपाशा ने अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली। ‘लम्हा’ देख दर्शक आक्रोश में आ गए कि हमें नहीं देखना ऐसी बिपाशा। हमें तो ‘बीड़ी जलई ले’ वाली बिपाशा ही अच्छी लगती है। बिप्स की स्टार वैल्यू में जबर्दस्त गिरावट आई है।
विद्या बालन
(इश्किया)
इश्किया में विद्या ने बोल्ड रोल कर दर्शकों को चौंका दिया। गालियाँ भी दी और अरशद को गरमा-गरम किस भी दे दिया। उनके अभिनय की खूब तारीफ हुई और फिल्म ने भी अच्छा व्यवसाय किया। एक अच्छी एक्ट्रेस की साख को विद्या ने इस वर्ष भी कायम रखा।

(कार्तिक कॉलिंग कार्तिक, हाउसफुल, लफंगे परिंदे, ब्रेक के बाद, खेलें हम जी जान से)
दीपिका की इस वर्ष प्रदर्शित फिल्मों को देख एक ही बाद याद आती है ‘पिटें हम जी जान से’। उनकी यह हालत देख उन निर्माताओं के पसीने छूट रहे हैं जो दीपिका को लेकर फिल्म बना रहे हैं। ‘हाउसफुल’ के नाम पर एक औसत सफलता उनके नाम दर्ज है। रणबीर के बारे में उल्टा-सीधा बोल उन्होंने कई लोगों की नाराजगी मोल ले ली, सो अलग।
लारा दत्ता
(हाउसफुल)
फिल्मों से ज्यादा लारा की चर्चा उनकी सगाई को लेकर रही। ना-ना करते-करते उन्होंने भूपति को अपना जीवन साथी बनाने का फैसला ले ही लिया। एकमात्र प्रदर्शित हाउसफुल की सफलता में उनका योगदान कितना है, ये बात वे भी अच्छी तरह जानती हैं।
कंगना
(काइट्स, वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई, नॉक आउट, नो प्रॉब्लम)
काइट्स, नो प्रॉब्लम और नॉक आउट में कंगना के रोल देख ये बात समझ में आती है कि रोल चुनने के मामले में वे नासमझ है। अभिनय भी उन्होंने घटिया किया। बॉलीवुड के बड़े हीरो कंगना को घास नहीं डालते। ‘वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई’ ने उनकी साख बचा ली।



और भी पढ़ें :