रविवार, 2 अप्रैल 2023
  1. धर्म-संसार
  2. ज्योतिष
  3. ज्योतिष आलेख
  4. Ashwin maas vrat and tyohar 22
Written By
Last Updated: सोमवार, 12 सितम्बर 2022 (18:23 IST)

आश्विन मास की 16 पवित्र बातें आपको पता होना चाहिए

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार भाद्रपद के बाद आश्‍विन माह प्रारंभ होता है जो कि 7वां माह है। 11 सितंबर से आश्‍विन माह प्रारंभ हो गया है जो 09 अक्टूबर 2022 तक चलेगा। आश्‍विन माह को बहुत ही पवित्र माह माना जाता है। आओ जानते हैं इस माह के प्रमुख व्रत, पर्व और त्योहार के साथ ही इस माह की 16 पवित्र बातें। 
 
1. आश्‍विन माह का प्रारंभ 16 दिन चलने वाले श्राद्ध पक्ष से होता।
 
2. श्राद्ध पक्ष के बाद शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो जाती है, जिसमें 9 दिनों तक व्रत रखा जाता है।
 
3. शारदीय नवरात्रि के समाप्त होने के दूसरे दिन विजयादशमी और दशहरे का पर्व मनाया जाता है। इस दिन माता दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था इसलिए विजयादशमी और इसी दिन श्रीराम ने रावण का वध कर दिया था इसलिए दशहरा मनाया जाता है।
 
4. इसी माह में कृष्ण पक्ष में अंगारकी चतुर्थी, संकष्टी गणेश चतुर्थी का व्रत रखा जाता है।
 
5. अष्टमी के दिन विश्वकर्मा जयंती, रोहिणी व्रत, कन्या संक्रांति, कालाष्टमी, गजलक्ष्मी व्रत रखा जाता है।
 
6. इसी माह में मध्य अष्टमी, जिऊतिया व्रत का व्रत भी रखते हैं।
 
7. इसी माह के कृष्‍ण पक्ष की एकादशी को इंदिरा एकादशी का व्रत रखते हैं। 
 
8. प्रदोष व्रत और माघ श्रद्धा के दूसरे दिन मासिक शिवरात्रि रहती है।
 
9. इसके बाद सर्वपितृ अमावस्या का महत्वपूण दिन रहता है, जिसे महालय श्राद्ध कहते हैं।
 
10. इसके बाद शरद ऋतु का प्रारंभ हो जाता है और नवरात्री पर्व की शुरुआत होती है। इसी दिन अग्रसेन जयंती भी रहती है।
 
11. इसके बाद नवरात्रि प्रतिपदा के दूसरे दिन सिंधारा दूज भी रहती है।
 
12. नवरात्रि में ही वरद चतुर्थी भी रहती है। इसके बाद ललित पंचमी का व्रत भी रखते हैं। 
 
13. इसके बाद 2 अक्टूबर सप्तमी को महानिशा पूजा और सरस्वती आवाहन
 
14. इसके बाद दुर्गाष्टमी की पूजा होगी और फिर महानवमी की पूजा। 5 अक्टूबर को विजयादशमी का पर्व मनाया जाएगा।
 
15. इसके बाद 6 अक्टूबर को : पापांकुशा एकादशी, भारत मिलाप रहेगा। 
 
16. 9 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा रहेगी। इसी के साथ कार्तिक स्नान, काजोगरा पूजा, वाल्मीकि जयंती भी रहेगी।