चाँदी के कण रोकेंगे रक्त के थक्के बनना

नई दिल्ली (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 14 जून 2009 (14:23 IST)
(बीएचयू) के वैज्ञानिकों ने को रोकने का एक नया तरीका खोजने का दावा किया है।

बीएचयू के जैव रसायन विभाग के अध्यक्ष देबब्रत दाश के नेतृत्व में हुए वैज्ञानिकों के अध्ययन में दावा किया गया है कि चाँदी के नैनोकण प्लेटलेट्स को निष्क्रिय अवस्था में रखते हैं और इस तरह थक्के के निर्माण को रोक सकते हैं।

दाश ने ईमेल साक्षात्कार के माध्यम से बताया चाँदी के नैनोकण अपने बैक्टीरिया प्रतिरोधी गुणों के लिए पहले से जाने जाते थे। हमारे अध्ययन से पहली बार पता चला है कि इनमें प्लेटलेट प्रतिरोधी गुण भी होते हैं।
अध्ययन से पता चला है कि चाँदी के नैनोकण प्लेटलेट के संयुग्मन को रोकते हैं और उन्हें निष्क्रिय अवस्था में रखते हैं। दाश ने कहा सूक्ष्म मात्रा में चूहों में पहुँचाए गए इन कणों ने प्लेटलेट्स के आपस में जुड़ने की आशंका को 40 फीसदी तक कम किया है। इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं दिखा।

वैज्ञानिकों ने यह भी दावा किया है कि थक्के के निर्माण के उपचार की पारंपरिक विधियों से कहीं ज्यादा प्रभावी यह तरीका है। दाश का यह अध्ययन अमेरिकन केमिकल सोसाइटी द्वारा प्रकाशित एसीएस नैनो के 23 जून के अंक में प्रकाशित होगा।

 

और भी पढ़ें :