मेरठ के नजर मोहम्मद का पाकिस्तानी कनेक्शन आया सामने, पुलिस ने किया गिरफ्तार

हिमा अग्रवाल| पुनः संशोधित गुरुवार, 8 सितम्बर 2022 (23:59 IST)
हमें फॉलो करें
मेरठ। उत्तरप्रदेश के जिले से एक शख्स का मिलने से हड़कंप मच गया है। थाना भावनपुर के क्षेत्र रहने वाले बादशाह उर्फ का पाकिस्तानी कनेक्शन सामने आया है। माना जा रहा है कि जिन लोगों से नजर जुड़ा हुआ है, वे आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं जिसके चलते पुलिस और खुफिया तंत्र और नजर मोहम्मद पर नजर गढ़ाए हुए है।

भावनपुर के कुलीमानपुर गांव के रहने वाले बादशाह उर्फ नजर मोहम्मद का पाकिस्तानी के रहने वाले इब्राहीम से कनेक्शन सामने आया है। फेसबुक पर नजर ने हिन्दू देवताओं के आपत्तिजनक फोटो और पाकिस्तानी नागरिक इब्राहीम के AK-47 के साथ फोटो शेयर किए हैं। इसके चलते नजर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए उसे गिरफ्तार करके अपनी और शुरू कर दी है।
मेरठ के बादशाह उर्फ नजर मोहम्मद ने अपनी फेसबुक पर पाकिस्तानी इब्राहीम के फोटो शेयर किए हैं। इस फोटो में पाकिस्तान के पेशावर का रहने वाला इब्राहीम प्रतिबंधित हथियार एके-47 का प्रदर्शन कर रहा है। यह माना जा रहा है कि इब्राहीम के तार किसी बड़े आतंकी संगठन से जुड़े हो सकते हैं जिसके चलते पुलिस को नजर पर भी संदेह हुआ।

नजर 6 साल से अधिक समय दुबई में रहकर ड्राइवर की नौकरी कर चुका है। इस दौरान वह 2 साल शेयरिंग कमरे में पाकिस्तान के रहने वाले इब्राहीम के साथ भी रहा है। इसलिए खुफिया विभाग, एटीएस और की टीम भावनपुर थाने पहुंची और आरोपी बादशाह उर्फ नजर को पकड़कर पूछताछ में जुट गई है।
पुलिस पूछताछ में नजर ने बताया कि वह पूर्व में सऊदी अरब की एक कंपनी में ड्राइवर की नौकरी करता था। इस दौरान शेयरिंग कमरे में सिकंदर, फिरोज और पाकिस्तान के पेशावर का रहने वाला इब्राहीम मिलकर रहते थे। नजर मोहम्मद की फेसबुक पर जो फोटो AK-47 के साथ है, वह इब्राहीम का ही है। वही फोटो में इब्राहीम की वेशभूषा देखकर कहा जा सकता है कि उसके संबंध आतंकी संगठनों से है।
नजर की फेसबुक वॉल पर कुछ लोगों ने हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली पोस्ट शेयर की हुई है और देवताओं के आपत्तिजनक चित्र डाले गए हैं जिस पर नजर मोहम्मद ने टिप्पणी की है। इस मामले पर हिन्दू संगठन एक्टिव हो गए और उन्होंने पुलिस से शिकायत की। इसलिए आरोपी नजर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी की गई है।
वहीं पुलिस ने नजर मोहम्मद की फेसबुक को तलाशा तो उसकी फ्रैंड लिस्ट में कुछ ऐसे लोग सामने आए, जो पाकिस्तान के रहने वाले हैं और शक है कि उनके आतंकी संगठन से संबंध हैं। अब देखना होगा कि और एटीएस की पूछताछ में नजर की क्या सच्चाई निकलकर सामने आती है? नजर ने अपनी फेसबुक वॉल पर हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाली पोस्ट क्यों शेयर की है, यह तो जांच के बाद ही साफ हो पाएगा।



और भी पढ़ें :