Indian Super League : चेन्नइयन एफसी की चुनौती का सामना करेगी जमशेदपुर

Chennaiyin
Last Updated: सोमवार, 23 नवंबर 2020 (20:08 IST)
वास्को। हीरो इंडियन सुपर लीग (Hero Indian Super League) के सातवें सीजन में मंगलवार को वास्को डि गामा के तिलक मैदान स्टेडियम में दो बार की पूर्व चैंपियन चेन्नइयन एफसी (Chennain FC) का सामना जमशेदपुर एफसी (Jamshedpur FC) से होगा।
इस सीजन में कोच के रूप में जमशेदपुर एफसी से जुड़ने वाले ओवेन कॉयले पिछले सीजन में चेन्नइयन एफसी टीम के कोच थे। उनके मार्गदर्शन में चेन्नइयन की टीम ने अंक तालिका में नीचे से ऊपर उठते हुए फाइनल तक का सफर तय किया था, जहां खिताबी मुकाबले में उसे एटीके से हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन कॉयले इस बार जमशेदपुर एफसी के कोच हैं।

कॉयले न केवल खुद जमशेदपुर की टीम से जुड़े हैं बल्कि उन्होंने पिछले सीजन के संयुक्त रूप से टॉप स्कोरर और गोल्डन बूट विजेता नेरीजुस व्लास्किस को भी अपने साथ जमशेदपुर एफसी में लेकर आए हैं। कॉयले ने इसके अलावा मिजोरम के डिफेंडर लालदिनलियाना रेंथलेई को भी जमशेदपुर एफसी का हिस्सा बनाया है, जो पिछले कई सीजन से चेन्नइयन का हिस्सा थे।

कॉयले जानते हैं कि इन खिलाड़ियों ने पहले बेहतरीन प्रदर्शन किया है और वे उनकी ताकतों को जानते हैं। उन्होंने कहा, मेरा हमेशा से मानना है कि जब आप पुरानी टीम के खिलाफ होते हैं और उन खिलाड़ियों के साथ होते हैं, जो आपके सामने खेल चुके हैं तो वे ये दिखाना चाहते हैं कि वे अभी भी टॉप पर हैं। इसलिए मुझे उनका सम्मान करना होगा।

व्लास्किस के जुड़ने से जमशेदपुर के आक्रमण को मजबूती मिलेगी, लेकिन टीम ने पिछले सीजन में 35 गोल खाए थे और कॉयले को यह चिंता जरूर सता रही होगी। चेन्नइयन की टीम इस बार अपने नए कोच क्साबा लाजलो के मार्गदर्शन में सीजन की शुरुआत करने उतरेगी। टीम के लिए उन खिलाड़ियों की जगह भरना मुश्किल होगा, जो क्लब का साथ छोड़ चुके हैं।

पिछले सीजन में जो विदेशी खिलाड़ी टीम में थे, उनमें से अब केवल नए कप्तान राफेल क्रिवेल्लारो और डिफेंडर अली सेबिया ही बचे हुए हैं। कोच लाजलो को उम्मीद है कि जैकब सिल्वेस्टर और डिफेंडर एनीस सिपोविच के आने से वो पिछले खिलाड़ियों की भरपाई कर सकते हैं।

क्रिवेल्लारो ने चेन्नयइन का कप्तान बनाए जाने पर कहा, कप्तान बनने से मैं खुश हूं और यह मेरे लिए सम्मान की बात है, लेकिन मेरे लिए कुछ नहीं बदला है। मेरी फुटबॉल खेलनी की शैली वही है। अपने स्ट्राइकरों की मदद करना सबसे महत्वपूर्ण बात है।(वार्ता)



और भी पढ़ें :