समुद्री यातायात पर स्वदेशी सॉफ्टवेयर के जरिए होगी निगरानी

पुनः संशोधित गुरुवार, 10 जून 2021 (17:00 IST)
नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास के अनुसंधानकर्ता समुद्री पर नजर रखने में मदद के लिए एक स्वदेशी जलपोत यातायात सॉफ्टवेयर (वीटीएस) का विकास कर रहे हैं। मैरीटाइम विजन 2030 की कार्ययोजना में शामिल रही सॉफ्टवेयर विकास परियोजना आईआईटी मद्रास और तूतिकोरिन (तमिलनाडु) के वीओसी बंदरगाह ट्रस्ट के बीच साझेदारी का हिस्सा है। इसके लिए एक सहमति पत्र पर हाल ही में दस्तखत किए गए थे।
प्रस्तावित सॉफ्टवेयर बढ़ते समुद्री यातायात पर नजर रखने में मददगार होगा और समुद्री क्षेत्र में वैश्विक तकनीक विकास के साथ रफ्तार पकड़ने में इससे मदद मिलेगी।

वीओसी बंदरगाह ट्रस्ट के अध्यक्ष टीके रामचंद्रन के अनुसार वीओसी बंदरगाह वीटीएस प्रणाली के लिहाज से के विकास के लिए आईआईटी मद्रास में राष्ट्रीय बंदरगाह, जलमार्ग और समुद्रतट प्रौद्योगिकी केंद्र के साथ एमओयू करने वाला भारत का पहला बड़ा पत्तन है।

आईआईटी मद्रास के प्रोफेसर के. मुरली ने कहा, स्वदेश निर्मित वीटीएस सॉफ्टवेयर प्रणाली भारत के लिए अन्य स्वेदशी प्रौद्योगिकी हल निकालने में रास्ता बनाएगी।(भाषा)



और भी पढ़ें :