#RILresults के मुख्य बिंदु : जियो ने पिछले 12 महीनों में 13 करोड़ 57 लाख ग्राहक जोड़े

पुनः संशोधित शुक्रवार, 17 जनवरी 2020 (20:32 IST)
मुंबई। (RIL) के CFO आलोक अग्रवाल ने शुक्रवार शाम तीसरी तिमाही के घोषित कर दिए। उन्होंने बताया कि कंपनी की दूरसंचार इकाई जियो का शुद्ध लाभ 1350 करोड़ रुपए रहा। पिछले 12 महीने में जियो ने 13 करोड़ 57 लाख ग्राहक जोड़े। 31 दिसंबर 2019 तक 37 करोड़ ग्राहक @RelianceJio से जुड़ चुके थे। इनमें से 1 करोड़ 48 लाख नए ग्राहक पिछली तिमाही में जुड़े। #RILresults के मुख्य बिंदु...
• रिफाइनिंग, Jio और रिटेल क्षेत्र में कंपनी के दमदार प्रदर्शन के दम पर Q3 FY2019-20 में कंपनी का रिकॉर्ड कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ 11,640 करोड़ ($ 1.6 बिलियन) रहा, यह पिछले साल के मुकाबले 13.5% अधिक है।
• वर्ष की इस तिमाही में @RelianceJio की EBITDA मार्जिन 40.1% रही जो पिछली तिमाही के मुकाबले 80 bps ज्यादा है।

• तीसरी तिमाही में @RelianceJio का EBITDA पिछले साल के मुकाबले 38.2% बढ़कर 5,601 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल के मुकाबले तिमाही सेगमेंट राजस्व 36.2% बढ़कर 17,555 करोड़ रुपए हो गया है।
• तिमाही के दौरान @RelianceJio का प्रतिमाह प्रति सब्सक्राइबर ARPU 128.4 रुएए (IUC राजस्व सहित) रहा, यह पिछली तिमाही में 127.5 रुपए था।

• IUC टैरिफ लागू होने के 2 महीने के भीतर @RelianceJio एक्सेस शुल्क का शुद्ध प्राप्तकर्ता बन गया है।
• Q3 FY2019-20 का रिकॉर्ड तिमाही PBDIT पिछले साल के मुकाबले 9.6% बढ़कर 26,088 करोड़ ($ 3.7 बिलियन) रहा।
• Q3 FY2019-20 कंसोलिडेटिड सेगमेंट EBITDA रिकॉर्ड 23,500 करोड़ रुपए रहा, यह पिछली तिमाही के मुकाबले 1.4% अधिक है।

• Q3 FY2019-20 सभी कंज्यूमर बिजनेस ने मजबूत ऑपरेटिंग परफॉरमेंस दिखाया। रिटेल बिजनेस का राजस्व पिछले साल के मुकाबले 27.4% बढ़कर 45,327 करोड़ रहा। @RelianceJio का राजस्व पिछले साल के मुकाबले 36.2% बढ़कर 17,555 करोड़ रुपए रहा।

• रिलायंस इंडस्ट्रीज का शुद्ध कर्ज पिछली तिमाही से कम हुआ है। केपेक्स साइकल अब पूरी हो गई है। तिमाही का केपेक्स 14,015 करोड़ रुपए हो गया है, जो पिछली तिमाही और पिछले साल, दोनों के मुकाबले काफ़ी कम हो गया है।
• वित्तीय वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही में रिलायंस के कन्ज़्यूमर बिजनेस का EBITDA, RIL के सेगमेंट EBITDA का 37% है। ये जल्द ही हाइड्रोकार्बन के EBITDA के बराबर होने की ओर बढ़ रहा है।
• रिलायंस का तीसरी तिमाही का कंसोलिडेटिड रेवेन्यू 168,858 करोड़ रुपए (23.7 अरब डॉलर) है। पिछले साल के मुकाबले ये 1.4% कम है।

• तीसरी तिमाही में ग्रॉस रिफ़ाइनिंग मार्जिन पिछले 11 साल के सबसे ऊंचे स्तर $9.2 प्रति बैरल पर रही। रिलायंस का GRM सिंगापुर के GRM $7.6 प्रति बैरल से काफ़ी ज़्यादा रहा।
• FY2019-20 में रिफ़ाइनिंग EBIT रुपे 5,657 crore ($79.2 करोड़) रहा जो पिछले साल के मुकाबले ज़्यादा है।
• Q3 FY2019-20 में नई कैपेसिटी, इन्वेंट्री ओवरहैंग और वैश्विक मंदी के कारण पेट्रोकेमिकल्स EBIT पिछले साल के मुकाबले 28.5% गिरकर 5,880 करोड़ जा पहुंचा।

• इस तिमाही में 9.9 मिलियन टन का शानदार पेट्रोकेमिकल्स का उत्पादन हुआ Q3 FY2019-20।
• नए स्टोर्स, त्योहारी मांग और मजबूत LFL बिक्री के साथ रिलायंस रिटेल का राजस्व पिछले साल के मुकाबले 27.4% बढ़कर 45,327 करोड़ रुपए रहा।
• उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स, फैशन एवं लाइफस्टाइल और किराना क्षेत्रों में 35.7% की बढ़ोतरी के कारण रिलायंस रिटेल के राजस्व में शानदार वृद्धि देखने को मिली।

• रिलायंस रिटेल का EBITDA रिकॉर्ड 2,727 करोड़ रु ($ 0.4 बिलियन) रहा, जो पिछले साल के मुकाबले 62.3% अधिक रहा।
• रिलायंस रिटेल ने शानदार प्रदर्शन करते हुए लगातार 15वीं तिमाही में भी राजस्व और EBITDA, दोनों में बढ़ोतरी दर्ज की है।
• रिलायंस रिटेल के अब 11,000 स्टोर हैं जिनका कुल क्षेत्रफल 2 करोड़ 63 लाख वर्गफीट है।


और भी पढ़ें :