मंगलवार, 16 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. मध्यप्रदेश
  4. cm mohan yadav inaugurated air service from ujjain mahakalto omkareshwar pm shri dharmik paryatan heli seva
Last Updated :भोपाल , गुरुवार, 14 मार्च 2024 (21:59 IST)

महाकाल और ओंकारेश्वर दर्शन, सिर्फ 1 दिन में, पीएम श्री धार्मिक पर्यटन हेली सेवा शुरू

महाकाल और ओंकारेश्वर दर्शन, सिर्फ 1 दिन में, पीएम श्री धार्मिक पर्यटन हेली सेवा शुरू - cm mohan yadav inaugurated air service from ujjain mahakalto omkareshwar pm shri dharmik paryatan heli seva
अब एक ही दिन में महाकाल और ओंकारेंश्वर के दर्शन हो सकेंगे। मध्यप्रदेश में आज से पीएम श्री पर्यटन वायु सेवा (PM Shri Tourism Air Service) और पीएम श्री धार्मिक पर्यटन हेली सेवा (PM Shri Religious Tourism Heli Service) शुरू हो गई है। 
 
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने भोपाल के स्टेट हैंगर में इसका शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य राज्य के पर्यटन स्थलों को हवाई सेवा से जोड़ना है। मध्य प्रदेश सरकार ने छोटे-छोटे धार्मिक स्थलों के दर्शन के लिए हेलीकॉप्टर और हवाई जहाज से सर्किट बनाकर यह हवाई सेवा शुरू की है। इसमें धार्मिक स्थलों तक आसानी से पहुंचा जा सकेगा और धन व समय की भी बचत होगी।
 
क्या लिखा सोशल मीडिया पर : मुख्यमंत्री मोहन यादव ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर लिखा कि धार्मिक स्थलों तक सुगम होगा पहुंचना। पर्यटन को मिलेंगे नई उड़ान के पंख. हमारा मध्यप्रदेश धार्मिक स्थलों और पर्यटन की दृष्टि से अत्यंत समृद्ध है। आज भोपाल में "पीएम श्री पर्यटन वायु सेवा" एवं "पीएम श्री धार्मिक पर्यटन हेली सेवा" का सिंगल क्लिक के माध्यम से शुभारंभ किया। प्रदेश की प्रगति के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से हम नित नए प्रतिमान स्थापित कर रहे हैं। 
 
मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने इस पर्यटन हेली सेवा में पहली यात्रा की। विजयवर्गीय ने हेलीकॉप्टर में बैठकर सफर किया और गुरुवार को मंत्रिपरिषद की बैठक के बाद दोनों ही योजनाओं के बारे में जानकारी दी।
विजयवर्गीय ने बताया कि उज्जैन महाकाल और ओंकारेश्वर के बीच एक धार्मिक पर्यटन सर्किट बनेगा। इसके संचालन का केंद्र इंदौर होगा। श्रद्धालु धार्मिक पर्यटन हेली सेवा के जरिए धार्मिक तीर्थ स्थलों तक हेलिकॉप्टर से पहुंचेंगे। 
यहां से हेलीकॉप्टर के माध्यम से तीर्थ स्थलों पर यात्री आ-जा सकेंगे। हालांकि इस अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है कि एक दिन में कितने फेरे लगेंगे। इसके लिए कितना किराया भक्तों को चुकाना होगा। 
ये भी पढ़ें
भारत में कंपनियों के लिए साइबर हमला बड़ा खतरा, सर्वेक्षण रिपोर्ट में हुआ खुलासा