5 सालों में 7 मैचों में 4 नंबर पर उतरे विराट कोहली, 5 में मिली हार, राजकोट में बदलना पड़ेगी रणनीति

पुनः संशोधित बुधवार, 15 जनवरी 2020 (23:00 IST)
नई दिल्ली। विराट कोहली का एकदिवसीय मैचों में नंबर 4 पर उतरना भारत ही नहीं, स्वयं पर भी भारी पड़ा है और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ राजकोट में दूसरे मैच से पहले टीम प्रबंधन को अपनी इस रणनीति पर गंभीरता से विचार करना होगा।
ALSO READ:
2008 में राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में शामिल होना मेरा सबसे पसंदीदा पल रहा था : विराट कोहली
यह पहला अवसर नहीं है जबकि कोहली का नंबर 4 पर उतरने से टीम को नुकसान हुआ। पिछले 5 वर्षों में वे जिन 7 मैचों में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे, उनमें से 5 मैच में भारत को का सामना करना पड़ा। इनमें से टीम ने केवल 1 मैच जीता जबकि 1 मैच का परिणाम ही नहीं निकला।
कोहली ने शिखर धवन और केएल राहुल दोनों को टीम में रखने के लिए मुंबई में पहले वनडे में अपने पसंदीदा तीसरे नंबर का 'बलिदान' किया। वे चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे लेकिन केवल 16 रन बनाकर आउट हो गए। इससे भारतीय मध्यक्रम लड़खड़ा गया और टीम को 10 विकेट से करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।

जिन 7 मैचों में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए कोहली उतरे, उनमें कोहली के प्रदर्शन पर गौर करेंगे तो चौंक जाएंगे। वनडे में 59.61 की औसत से 11,625 रन बनाने वाले कोहली ने इन 7 मैचों में केवल 62 रन बनाए और उनका औसत 10.33 रहा। इनमें उनका सर्वोच्च स्कोर 16 रन रहा और यही वजह है कि भारतीय कप्तान को स्वीकार करना पड़ा कि उन्हें इस रणनीति पर पुनर्विचार करना होगा।
कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नंबर 4 पर उतरने के फैसले के बारे में कहा कि हम पूर्व में भी इस पर कई बार चर्चा कर चुके हैं। जिस तरह से राहुल बल्लेबाजी कर रहा था, हमने उसे बल्लेबाजी क्रम में फिट करने की कोशिश की। लेकिन जब भी मैं नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए उतरा तो मुझे लगता है कि यह हमारे लिए सही नहीं रहा इसलिए इस पर पुनर्विचार करना होगा।

42 मैचों में 4 नंबर पर की बल्लेबाजी : कोहली अब तक 243 वनडे खेल चुके हैं लेकिन इनमें से वे केवल 42 मैचों में ही नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए उतरे। इन मैचों में उन्होंने 55.21 की औसत और 7 शतकों की मदद से 1,767 रन बनाए हैं। इनमें से 8 मैचों में वे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नंबर 4 पर उतरे और केवल 110 रन बना पाए जिसमें उनका उच्चतम स्कोर 30 रन है।
कोहली को भी नहीं पसंद 4 नंबर : कोहली को भी नंबर 4 स्थान नहीं भाता है और यही वजह है कि कप्तानी संभालने के बाद उन्होंने इस नंबर से परहेज ही किया। वे 2015 के बाद पिछले साल मोहाली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही धवन और राहुल को फिट करने की कोशिश में नंबर 4 पर उतरे लेकिन 7 रन बनाकर आउट हो गए और भारत 4 विकेट से मैच हार गया। वैसे कोहली अपनी कप्तानी में 9 मैचों में नंबर 4 पर उतरे हैं जिनमें उन्होंने 354 रन बनाए हैं।
टी-20 में नहीं चला बल्ला : सीमित ओवरों के अन्य प्रारूप टी-20 अंतरराष्ट्रीय में भी कोहली को नंबर 4 स्थान रास नहीं आता। खेल के सबसे छोटे प्रारूप में वे 15 मैचों में नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए आए। इन मैचों में उन्होंने 42.66 की औसत से रन बनाए जबकि उनका कुल औसत 52.72 है।

टेस्ट में बनाए रन : इसके उलट टेस्ट मैचों में उन्हें नंबर 4 भाता है। सचिन तेंदुलकर के संन्यास लेने के बाद कोहली ने इस स्थान की जिम्मेदारी बखूबी संभाली है। कोहली ने टेस्ट मैचों में नंबर 4 बल्लेबाज के रूप में अब तक 61.20 की औसत से 5,692 रन बनाए हैं। (भाषा)

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :